अंतरिक्ष से गीजा के पिरामिड से भी बड़े आकार के ऐस्टरॉइड्स धरती को ‘छू’ कर निकलेंगे

वॉशिंगटन . ब्रह्माड़ में खगोलीय घटनाओं को लेकर वैज्ञानिकों से लेकर आमजन तक उनके बारे में जानने की जिज्ञासा बनी रहती है. अब खबर आ रही है कि गीजा के पिरामिड से भी बड़े आकार के कई ऐस्टरॉइड इस हफ्ते और आने वाले कुछ दिनों में पृथ्वी के निकट से गुजरेंगे. नासा के सेंटर फॉर नियर-अर्थ ऑब्जेक्ट स्टडीज के मुताबिक शुक्रवार (Friday) को ऐस्टरॉइड 2021 एसएम3 पृथ्वी के निकट से गुजरा था. इसकी खोज पिछले महीने की गई थी. विशालकाय ऐस्टरॉइड का व्यास 525 फीट है जो 482 फीट लंबे ग्रेट पिरामिड ऑफ गीजा से भी लंबा है. इस आकार का ऐस्टॉइड अगर धरती से टकराता है तो भारी तबाही मचा सकता है. 2021 एसएम3 की पहचान पृथ्वी के निकट मौजूद ऑब्जेक्ट के रूप में हुई थी. नासा के मुताबिक इस तरह के ऐस्टरॉइड अपने निकटम ग्रह के गुरुत्वाकर्षण बल के कारण ऑर्बिट में बंधे रहते हैं. अपनी निकटतम दूरी पर यह पृथ्वी से 3.6 मिलियन मील दूर था. हालांकि इस दूरी पर पृथ्वी को कोई भी खतरा नहीं होता.

यह ऐस्टरॉइड हमारे सबसे करीबी पड़ोसी शुक्र ग्रह से ज्यादा करीब था जो धरती से 25 मिलियन मील की दूरी पर स्थित है. पृथ्वी के करीब से गुजरने वाला 2021 एसएम3 अकेला विशालकाय ऐस्टरॉइड नहीं था. एमएम3 से भी बड़े सात ऐस्टरॉइड नवंबर के आखिर तक हमारे ग्रह के करीब से गुजरेंगे. इनमें सबसे करीब 1996 वीबी3 है जो 20 अक्टूबर को पृथ्वी से 2.1 मिलियन मील की दूरी पर गुजरेगा. 1996 वीबी3 ऐस्टरॉइड का व्यास करीब 754 फीट है. पृथ्वी की ओर बढ़ने वाले ऐस्टरॉइड्स में सबसे बड़ा है- 2004 यूई, जिसका व्यास 1,246 फीट है. यह एम्पायर स्टेट बिल्डिंग से कुछ ही फीट छोटा है. आगामी 13 नवंबर को 2004 यूई पृथ्वी से 2.6 मिलियन मील की दूरी पर गुजरेगा. नासा लगातार पृथ्वी के निकट मौजूद ऐस्टरॉइड खतरों पर नजर बनाए हुए है. इससे बचने के लिए आने वाले दिनों में अमेरिकी स्पेस एजेंसी ‘डार्ट मिशन’ लॉन्च करेगी.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *