भूमि पूजन से पहले योगी पहुंचे अयोध्या, बोले-एक अगस्त से ही अयोध्या में दिख दीपावली जैसा दृश्य


अयोध्या. आगामी पांच अगस्त को राम की नगरी अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होना है. इस मौके पर कई विषिष्ट अतिथियों के अलावा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) स्वयं मौजूद रहेंगे. निर्धारित कार्यक्रम को देखते हुए सूबे के मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ ने शनिवार (Saturday) को अयोध्या आकर तैयारियों का जायजा लिया. इस मौके पर प्रफुल्ललित नजर आ रहे मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी ने कहा कि पांच सौ वर्षों के लंबे संघर्ष व लाखों बलिदानों के बाद श्रीरामजन्मभूमि पर मंदिर निर्माण की शुभ बेला आई है. हमें इस अवसर को वैश्विक उत्सव का स्वरूप देना होगा. अयोध्या में एक अगस्त से ही दीपावली जैसा दृश्य दिखाई देना चाहिए. लोग अपने घरों में और संत महंत अपने मंदिरों में घी के दीपक जलाएं.

  कांग्रेसी विधायक अदिति सिंह ने सीएम योगी को बताया अपना राजनैतिक गुरु

दोपहर को राम की नगरी पहुंचे मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ ने रामजन्मभूमि स्थल पर भगवान राम की पूजा की और भरत, शत्रुघ्न और लक्ष्मण जी को नए आसन पर विराजमान कराया. उन्होंने परिसर में राम मंदिर (Ram Temple) निर्माण की तैयारियों का जायजा लिया. इस दौरान जिला प्रशासन के अधिकारी व ट्रस्ट के लोग मौजूद रहे. न्यास कार्यशाला में श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचवि चंपतराय ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) को तराशी गई शिलाओं के बारे में जानकारी दी. मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ रामलला के पूजन के बाद दर्शन करने हनुमानगढ़ी पहुंचे. कारसेवकपुरम में संतों के साथ पार्टी पदाधिकारियों व ट्रस्ट के सदस्यों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यहां लोग अपने घरों में और संत-महंत अपने मंदिरों में घी के दीपक जलाएं.

  ब्रिटेन में नीलम होगा महात्मा गांधी का चश्मा

कोरोना संक्रमण के कारण सभी लोगों की उत्सव में प्रत्यक्ष भागीदारी सम्भव नहीं है, लेकिन दूरदर्शन पर भूमि पूजन का सजीव प्रसारण होगा. सभी लोग अपने घरों से ही इस ऐतिहासिक अवसर के साक्षी बन सकेंगे. उन्होंने संतों से आग्रह किया कि कोरोना संकट के कारण सभी संतों को भूमि पूजन में आमंत्रित नहीं किया जा पा रहा है. इस कारण जिन संतों के नाम से आमंत्रण ट्रस्ट की ओर से भेजा जाय वही संत आयोजन में पधारें शिष्य या अन्य साधुओं को साथ न लायें. बाद में मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने अधिकारियों के साथ भूमि पूजन और प्रधानमंत्री के दौरे को लेकर समीक्षा बैठक की.

  त्रिपुरा में BSF के दो कर्मियों समेत 4 की कोरोना से मौत

विदित हो कि आगामी पांच अगस्त को मोदी राम मंदिर (Ram Temple) का शिलान्यास करेंगे. वह मंदिर की पहली ईंट रखेंगे और मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा. राम मंदिर (Ram Temple) के शिलान्यास का मुहुर्त तय हो चुका है और इस समय वहां जोर शोर से तैयारियां चल रही हैं. प्रधानमंत्री के अलावा मंदिर आंदोलन से जुडे पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी रितंभरा सहित तमाम नेताओं और साधु संतों को आमंत्रित किया गया है.

Check Also

रूस ने आखिर तैयार किया कोरोना वैक्सीन

राष्ट्रपति पुतिन ने बताया उनकी एक बेटी को दिया गया टीका मॉस्को . कोरोना वैक्सीन …