अमेजॉन पर बिक रही कर्नाटक के झंडे के रंग के साथ प्रतीक चिह्न वाली बिकनी

नई दिल्ली (New Delhi) . ई-कॉमर्स कंपनी अमेज़ॉन की कनाडाई वेबसाइट पर यूजर्स ने दावा किया है कि उनके देश में कर्नाटक (Karnataka) के झंडे के रंग और राज्य चिह्न वाली बिकनी वेबसाइट पर बिक रही है. इसके बाद कर्नाटक (Karnataka) के कन्नड़ और संस्कृति मंत्री अरविंद लिम्बावली ने कहा है कि सरकार कानूनी कार्रवाई करेगी. इसे कन्नड़ अभिमान का मामला बताते हुए मंत्री ने कहा कि सरकार ऐसी चीजों को बर्दाश्त नहीं करेगी और अमेज़ॉन कनाडा से माफी मांगने को कहा.

इससे कुछ समय पहले ही लोगों का गूगल के खिलाफ गुस्सा फूटा था, क्योंकि गूगल पर कन्नड़ को भारत की ‘सबसे खराब भाषा” बताया जा रहा था. लिम्बावली ने कहा है, ‘हमने हाल ही में गूगल द्वारा कन्नड़ के अपमान का सामना किया है. जख्म भरने से पहले ही, हमने पाया कि अमेज़ॉन कनाडा, कन्नड़ झंडे के रंग और प्रतीक चिह्न का महिलाओं के कपड़ों पर इस्तेमाल कर रहा है. उन्होंने शनिवार (Saturday) को ट्वीट किया, ‘बहुराष्ट्रीय कंपनियां कन्नड़ का बार-बार अपमान बंद करें. यह कन्नडिगों के स्वाभिमान का मामला है और हम ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त नहीं करेंगे.’ मंत्री ने कहा, ‘अमेज़ॉन कनाडा को कन्नडिगों से माफी मांगनी चाहिए. अमेज़ॉन कनाडा के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.’

  मंत्री नकवी बोले, 'चाट-पापड़ी' से एलर्जी है तो फिश करी खाओ, लेकिन संसद को मछली बाजार मत बनाओ

गूगल के मामले को लेकर भी मंत्री ने कानूनी कार्रवाई करने को कहा था लेकिन कंपनी द्वारा माफी मांगने के बाद उन्होंने ऐसा नहीं किया. इसे सरकार का अपमान बताते हुए जद (एस) नेता और पूर्व मुख्यमंत्री (Chief Minister) एच डी कुमारस्वामी ने सरकार से अमेज़ॉन के खिलाफ कार्रवाई की संभावनाओं पर गौर करने को कहा है. साथ में यह भी कहा कि भविष्य में ऐसी घटनाओं को दोबारा होने से रोकना जरूरी है. उन्होंने भी मांग कि अमेज़ॉन कन्नडिगों से माफी मांगे. बिकनी पर कर्नाटक (Karnataka) के गैर आधिकारिक राज्य झंडे का पीला और लाल रंग है तथा राज्य का प्रतीक चिह्न गंडाभेरुंड बना हुआ है. हालांकि हंगामे के बाद अमेज़ॉन ने इसे कनाडा की अपनी वेबसाइट से हटा लिया है. अमेज़ॉन की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *