क्वीन की मंजूरी के साथ ही कानून बना ब्रेक्जिट बिल, साफ हुआ ईयू से बाहर जाने का रास्ता


लंदन . ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर जाने का रास्ता साफ हो गया है. ब्रिटेन की संसद से पारित ब्रेग्जिट बिल को महारानी एलिजाबेथ द्वितीय ने मंजूरी दे दी है. ब्रिटेन की महारानी की मंजूरी के बाद अब यह बिल कानून बन गया है और ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर जाने का रास्ता साफ हो गया है. सरकार ने देश के दोनों सदनों से पारित होने के बाद यह प्रस्ताव महारानी के पास भेजा गया था, जिन्होंने इसे मंजूरी दे दी है. महारानी की मंजूरी के साथ ही अब तय हो गया है कि यूरोपीय संघ से ब्रिटेन का दशकों पुराना नाता 31 जनवरी को टूट जाएगा.

  कोविड-19 की वैक्सीन को सार्वजनिक वस्तुओं के रूप में मान्यता दी जानी चाहिए: WHO

उल्लेखनीय है कि यह बिल बुधवार को निचले सदन हाउस ऑफ कामन्स ने पारित कर दिया था. निचले सदन ने ऊपरी सदन हाउस ऑफ लॉर्ड्स की ओर से बिल में जोड़ी गई बातों को भी बदल दिया था. इस बिल के दोनों सदनों से पारित होने के बाद प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सुनहरे भविष्य के निर्माण में जुटने का संकल्प व्यक्त किया.

  राहुल के वीडियो को मायावती ने बताया नाटक

उन्होंने कहा एक समय ब्रेग्जिट की प्रक्रिया का पूरा होना असंभव लगने लगा था, लेकिन हमने इसे पूरा कर लक्ष्य प्राप्त कर लिया है. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान में दुनिया के अलग-अलग देशों से वार्ता कर अधिक स्वतंत्र रूप से बेहतर समझौते करने की बात कही गई है. ब्रेग्जिट के साथ ही 31 जनवरी को ब्रिटेन यूरोपीय यूनियन से अलग हो जाएगा. ब्रिटेन साल 1973 में यूरोपीय यूनियन का सदस्य बना था. यूरोपीय यूनियन में अभी 28 सदस्य हैं. ब्रिटेन यूरोपियन यूनियन से अलग होने वाला पहला देश बन गया है. बता दें कि ब्रेग्जिट के मुद्दे पर सन 2016 में जनमत संग्रह हुआ था, जिसमें 50 फीसदी लोगों का मत था कि ब्रिटेन को यूरोपीय यूनियन से अलग हो जाना चाहिए था.

  हर्षवर्धन ने डब्ल्यूएचओ कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष का कार्यभार संभाला

Check Also

उदयपुर से बसों द्वारा कोटा गये छत्तीसगढ़ के 350 प्रवासी, वहां से रेल द्वारा जाएंगे छत्तीसगढ़

उदयपुर (Udaipur). जिला कलक्टर (District Collector) श्रीमती आनंदी के निर्देशन में जिले से अन्य राज्यों …