Tuesday , 19 June 2018
Breaking News

फोर क्लोजर व सर्विस चार्ज की राशि के लिए दायर वाद खारिज

उदयपुर. समय से पूर्व ऋण अदायगी करने के बावजूद फोर क्लोजर एवं सर्विस चार्ज के नाम पर 3 लाख 83 हजार रूपए की अधिक राशि वसूलने को लेकर जिला उपभोक्ता मंच में दायर वाद को अदालत ने इसे कम्पनी का सेवा दोष नहीं मानते हुए खारिज कर दिया.

प्रकरण के अनुसार जिला उपभोक्ता मंच में राम सिंह जी की बाड़ी हिरणमगरी सेक्टर-11 निवासी हरपाल सिंह पुत्र गुरमेज सिंह मोगा ने डायरेक्टर / मैनेजर एलएपी सेल्स केपिटल फस्र्ट इंडिया बुल्स फाईनेंस सेंटर मुंबई व ब्रांच मैनेजर कैपिटल फस्र्ट आदर्श कॉपरेटिव सोसायटी सूरजपोल के खिलाफ परिवाद पेश किया, जिसमें बताया कि वह किरण मोटर्स का एकल स्वामी है, उसे व्यवसाय में रूपये की आवश्यकता होने पर फाईनेंस कम्पनी से 30 सितम्बर 2014 को 87,50,000 तथा 21 अक्टूबर 2014 को 27,06,000 के ऋण के लिए आवेदन किया जिन पर क्रमश: 1 लाख 11 हजार 266 तथा 34 हजार 416 प्रतिमाह किश्त से ऋण स्वीकृत कराया. फरियादी ने ऋण समाप्ति की अवधि से पूर्व ही ऋण की राशि एक मुश्त 30 नवम्बर 2015 को जमा करा कर ऋण समाप्त कर दिया. बाद में उसे ज्ञात हुआ कि फाईनेंस कम्पनी ने उससे अधिक राशि वसूली है, जिसमें बताया कि फोर क्लोजर चार्ज तथा सरचार्ज के नाम से 3 लाख 83 हजार 858 रूपए 74 पैसे की राशि अधिक वसूली गई है. अदालत से गुहार की कि उक्त राशि पुन: दिलाई जाए. जिला उपभोक्ता मंच के अध्यक्ष हिमांशु राय नागौरी एवं सदस्या अंजना जोशी ने दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद फैसले में लिखा कि ऋण किरण मोटर्स द्वारा लिया गया है. समय पूर्व अदायगी से फोर क्लोजर चार्ज तथा सर्विस चार्ज लेकर फाईनेंस कम्पनी ने सेवा में कोई दोष कारित नहीं किया है. इसलिए परिवाद खारिज कर दिया.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*