मंत्रिमंडल ने श्रीलंका के साथ समझौते में संशोधन को मंजूरी दी


नई दिल्ली. केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने दोहरे कराधान से बचाव तथा आय पर करों के संबंध में वित्‍तीय चोरी की रोकथाम के लिए भारत और श्रीलंका के बीच समझौते में संशोधन करने के प्रोटोकॉल पर हस्‍ताक्षर करने और पुष्टि को बुधवार को मंजूरी दे दी.सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार दोहरा कराधान बचाव संधि (डीटीएए) में सामान्‍य दुरूपयोग रोधी प्रावधान किया गया है.

  पूरी दुनिया में फैला कोरोना, 74,679 लोगों की ली जान, अमेरिका में 24 घंटे में 1255 मौतें

इससे कर नियमों में खामियों और विसं‍गतियों का लाभ उठाने वाली कर योजना युक्तियों पर रोकथाम लगाने में मदद मिलेगी. गौरतलब है कि भारत और श्रीलंका के बीच मौजूदा डीटीएए पर 22 जनवरी 2013 को हस्‍ताक्षर हुए थे और यह संधि 22 अक्‍तूबर, 2013 को लागू हुई थी.

भारत और श्रीलंका समावेशी ढांचा के सदस्‍य हैं,इसकारण इनसे समावेशी फ्रेमवर्क देशों के साथ अपने डीटीएए के संबंध में जी-20 ओईसीडी बीईपीएस एक्‍शन रिपोर्ट के तहत न्‍यूनतम मानकों को लागू करना अपेक्षित है. इसमें कहा गया है कि आधार कर चोरी रोकथाम और लाभ स्थानांतरण (एमएलआई) या द्विपक्षीय अनुबंध के माध्‍यम से कर संधि से संबंधित उपायों को लागू करने के लिए बहुपक्षीय समझौते के माध्‍यम से बीईपीएस एक्‍शन 6 के तहत न्‍यूनतम मानकों को पूरा किया जा सकता है. भारत एमएलआई पर हस्‍ताक्षरकर्ता देश है. श्रीलंका अभी तक एमएलआई पर हस्‍ताक्षर न करने वाला देश है.

  कृषि मशीनरी व कलपुर्जों की दुकानें, हाईवे पर ट्रकों के गैरेज रहेंगे चालू

Check Also

पलायन करने वाले मजदूरों के स्वास्थ्य और प्रबंधन के हम एक्सपर्ट नहीं: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली (New Delhi) . सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने मंगलवार (Tuesday) को कहा कि …