Wednesday , 15 August 2018
Breaking News

सुप्रीम कोर्ट का आदेश; क्लैट में तकनीकी खराबी से प्रभावित 4,690 छात्रों को मिलेंगे कम्पनसेटरी मार्क्स

नई दिल्ली. कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (क्लैट) में तकनीकी खामियों से प्रभावित 4,690 छात्रों को सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को बड़ी राहत दी. कोर्ट ने इन्हें कम्पनसेटरी मार्क्स देने का आदेश दिया है. परीक्षा करवाने वाली कोच्चि स्थित नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ एडवांस्ड लीग स्टडीज (एनयूएएलएस) को 16 जून तक रिवाइज्ड मेरिट लिस्ट जारी करनी होगी. जस्टिस यूयू ललित और दीपक गुप्ता की बेंच ने कहा कि जिस तरह से परीक्षा ली गई, उससे हम संतुष्ट नहीं हैं. परीक्षा केंद्रों पर अच्छे यूपीएस और जेनरेटर मुहैया करवाना एनयूएएलएस की जिम्मेदारी थी. लेकिन इसमें लापरवाही बरती गई. उल्लेखनीय है कि देश की 19 लॉ यूनिवर्सिटीज में दाखिले के लिए 13 मई को क्लैट-2018 आयोजित हुआ था. इसमें 54,450 छात्र बैठे थे. कम्प्यूटर खराब होने और सॉफ्टवेयर क्रैश होने जैसी तकनीकी खामियों की शिकायत कर विभिन्न छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट और विभिन्न हाईकोर्ट में याचिकाएं दायर की थीं.

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*