RAJASTHAN

गांधीसागर से छोड़े पानी के कारण चंबल मार रही उफान, कोटा बैराज के तेरह गेट खोल की पानी की निकासी

kota बैराज.

jaipur, 19 सितंबर . विदाई की ओर बढ़ रहा दक्षिण पश्चिमी मानसून गुजरे तीन दिनों में Rajasthan के कई जिलों को तर कर चुका है. हाड़ौती, वागड़ और मारवाड़ अंचल में झमाझम बारिश का दौर चला. प्रदेश के कई छोटे-बड़े बांध बारिश से लबालब होकर छलक रहे हैं. मध्य प्रदेश और Rajasthan में हुई भारी बारिश के बाद Rajasthan में चंबल, कालीसिंध, माही समेत कई नदियों का जलस्तर बढ़ गया. मध्य प्रदेश में गांधी सागर बांध से करीब तीन लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद चंबल उफान मारने लगी. इसके बाद kota बैराज बांध के 13 गेट खोलने पड़े है. जवाहर सागर और राणा प्रताप सागर बांध से भी लगातार पानी छोड़ा जा रहा है. kota बैराज से लगातार पानी छोड़े जाने के बाद निचले इलाके जहां पानी भरने की आशंका थी, उन्हें खाली करवाया गया. वहीं, आज भी पश्चिम Rajasthan के तीन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है.

  मुख्यमंत्री गहलोत बुधवार को खाटूश्यामजी आएंगे

पाली जिले के जवाई बांध के भी छह गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा है. बांसवाड़ा के माही बांध से भी लगातार पानी की निकासी जारी है. कालीसिंध, परवन, आहू नदियों में भी जलस्तर बढ़ने से यहां आसपास के गांवों में पानी भरने का खतरा बढ़ गया है. Rajasthan में बीते 24 घंटे में बाड़मेर, jaipur, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, सिरोही, Jalore, Udaipur, पाली, राजसमंद और Nagaur जिलों के कई इलाकों में दो इंच तक बरसात हुई. लगातार बारिश के कारण बाड़मेर, Jodhpur , बीकानेर, Jaisalmer में दिन का तापमान गिर गया.

jaipur मौसम केन्द्र के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि दक्षिण-पूर्वी Rajasthan के ऊपर बना कम दबाव (लो-प्रेशर सिस्टम) का क्षेत्र अब कमजोर होकर परिसंचरण तंत्र (साइक्लोनिक सर्कुलेशन) में बदल गया है. ये वर्तमान में दक्षिणी Rajasthan के ऊपर सक्रिय है और पश्चिम की दिशा में आगे बढ़ रहा है. इस सिस्टम के असर से बाड़मेर, Jalore व Jaisalmer के कुछ भागों में भारी बारिश होने की संभावना है. बीस सितंबर से राज्य में भारी बारिश के दौर से राहत मिलने की संभावना है.

  गोल्फ के प्रोत्साहन के लिए बीएसएफ ने किया टूर्नामेंट का आयोजन

पिछले 24 घंटे में सहायक नदियों में पानी का बहाव तेज होने पर jaipur, टोंक और Ajmer जिले के मुख्य पेयजल स्त्रोत बीसलपुर बांध में भी पानी की आवक हुई. बांध का जलस्तर एक सेंटीमीटर बढ़कर 313.75 आरएल मीटर पर आ गया. त्रिवेणी नदी में पानी का बहाव अभी 2.60 मीटर उंचाई पर है और आगामी दिनों में भी नदी से बांध में पानी की आवक जारी रहने की उम्मीद है. प्रदेश के दक्षिणी इलाकों में कम वायुदाब का क्षेत्र कमजोर पड़ने लगा है. परिसंचरण तंत्र अगले 24 घंटे दक्षिण पश्चिमी जिलों की ओर बढ़ने पर बाड़मेर,Jalore और Jaisalmer के कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. कल से प्रदेश के अधिकांश भागों में बारिश का दौर सुस्त पड़ने पर मौसम शुष्क रहने की आशंका है.

  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने धानक्या गांव में पंडित दीनदयाल उपाध्याय को श्रद्धासुमन अर्पित किए

मौसम विज्ञान केन्द्र का कहना है कि आज Jodhpur व Bikanerसंभाग के कुछ भागों में आज भी बादल छाए रहने तथा रुक-रुक कर हल्के से मध्यम बारिश जारी रहने की सम्भावना है. Jodhpur , Bikanerसंभाग के ज्यादातर इलाकों में 20 सितंबर से बारिश की गतिविधियों में कमी होगी. तत्पश्चात आगामी दिनों में केवल छुटपुट स्थानों पर हल्की मध्यम बारिश की संभावना है. पूर्वी Rajasthan के ज्यादातर भागों में आगामी दो-तीन दिन बारिश की गतिविधियों में कमी होगी. दिनांक 22 सितंबर से पूर्वी Rajasthan के kota, Udaipur, Bharatpur व jaipur संभाग के कुछ भागों में मेघगर्जन के साथ हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश की गतिविधियां पुनः शुरू होने की संभावना है. सितंबर के आखिरी सप्ताह में पूर्वी Rajasthan के कुछ भागों में हल्के से मध्यम बारिश की गतिविधियां जारी रहने तथा राज्य से मानसून की विदाई देरी से होने की प्रबल संभावना है.

/रोहित

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Most Popular

To Top

ताजा खबरों के लिए हमारा ग्रुप ज्‍वाइन करें


This will close in 0 seconds