देश की जनता को हकीकत जानने का पूरा हक है-मुख्यमंत्री


जयपुर (jaipur). मुख्यमंत्री (Chief Minister) अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने भारत चीन बॉर्डर पर खासतौर पर गलवान घाटी में घटी घटना भारत के 20 वीर जवानों के शहीद होने की घटना का पूरा सच जानने का देश की जनता को हक है का जिक्र पे्रस में करते हुए कहा कि यह हक देश की जनता को संविधान ने दिया है उसी संविधान में सरकारों को पॉवर और जवाबदेही भी तय की है.

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि पिछले छह साल से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) (Prime Minister Narendra Modi) देश की बागडोर संभाले है और इस दौरान क्या कारण है कि जो पडोसी देश भारत की हर बात को सहमति से मानते थे और आज छोटे से छोटा मुल्क किसी ना किसी मुद्दे पर भारत को आंखे दिखाने के लिए तत्पर खड़ा है. गहलोत ने कहा कि, चीन के साथ भारत की नीति सवालों के घेरे में है चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ पीएम मोदी ने झूला-झूला था, यह देश को याद है. उस समय भी बॉर्डर पर तनाव था लेकिन आज चीन की जो नीति है, उसका पीएम मोदी के पास कोई जवाब नहीं है मोदी देश के पहले पीएम हैं, जिनके वक्तव्य का चीन में स्वागत हुआ है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने कहा कि, मोदी सरकार (Government) के नेता राहुल गांधी के सवालों के जवाब नहीं देते कांग्रेस मांग करती है कि, चीन के मामले को लेकर प्रधानमंत्री अपनी स्थिति स्पष्ट करें देश को नहीं पता है कि, कितने सैनिक शहीद हुए हैं. कितने घायल हुए हैं और चीन में कितने सैनिक मारे गए हैं, कितनी जमीन पर चीन ने कब्जा किया है. देश को यह जानने का हक है.

  Ram Mandir Bhumi Poojan : राम के काज में शामिल हुई बांसवाड़ा के चित्रकार आशीष की रंगोली

अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा है कि, 1962 में जब चीन के साथ युद्ध हुआ था, उस समय देश के पास हथियार नहीं थे, लेकिन देश के सैनिकों का जज्बा देखने लायक था सीएम ने कहा कि, उस समय मेजर शैतान सिंह के नारे गूंज रहे थे कारगिल के युद्ध के समय में भी राजस्थान (Rajasthan) के जो शहीद हुए थे, मैं उनके घर गया था सीएम ने कहा कि, कांग्रेस सेना के शहीदों की शहादत को नमन करती है सेना के साथ खड़ी है. लेकिन आज जब देश सुपर पावर है, तब देश की जनता को वास्तविक स्थिति के बारे में जानने का अधिकार है. अत में उन्होने कहा कि देश की जनता केन्द्र सरकार (Government) से अपने संवैधानिक अधिकारों के साथ पूरी सच्चाई जानने का हक रखती है.

  अमित शाह दिल्ली के प्रमुख अस्पताल एम्स में भर्ती क्‍यों नहीं हुए ?

Check Also

Gujarat Hospital Fire : अहमदाबाद के कोविड अस्पताल में आग, 8 कोरोना मरीजों की मौत

गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) के नवरंगपुरा में गुरुवार (Thursday) तड़के एक कोविड डेडिकेटेड अस्पताल के …