गुजरात के नगर निगम चुनावों में भाजपा की प्रचंड जीत, कांग्रेस का सूपड़ा साफ


576 सीटों में भाजपा को 483, कांग्रेस को 55, आप को 27, एआईएमआईएम को 7 सीटें

अहमदाबाद (Ahmedabad) . गुजरात (Gujarat) के 6 नगर निगम के चुनावों में भाजपा की प्रचंड जीत हुई है और कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया है. दक्षिण गुजरात (Gujarat) के एक मात्र नगर निगम सूरत (Surat) में कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला. सूरत (Surat) में आम आदमी पार्टी (आप) ने तो अहमदाबाद (Ahmedabad) में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने कांग्रेस का खेल बिगाड़ दिया. सूरत (Surat) नगर निगम कांग्रेसमुक्त हो गया है और वहां आप विपक्ष बनकर सामने आई है.

सौराष्ट्र के दो नगर निगम राजकोट (Rajkot) और भावनगर में कांग्रेस सिंगल डिजिट में सिमट गई. मध्य गुजरात (Gujarat) के अहमदाबाद (Ahmedabad) और वडोदरा (Vadodara)में कांग्रेस की बुरी तरह से हार हुई है. अहमदाबाद (Ahmedabad) नगर निगम की कुल 192 सीटों में भाजपा को 159, कांग्रेस को 25, एआईएमआईएम को 7 और एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार के खाते में गई है. अहमदाबाद (Ahmedabad) के जमालपुर वार्ड में एआईएमआईएम के चारों उम्मीदवार जीत गए हैं. जबकि मक्तमपुरा वार्ड में एआईएमआईएम को 3 और 1 सीट कांग्रेस के खाते में गई है. 120 सीटों वाले सूरत (Surat) नगर निगम में भाजपा ने 93 सीटों पर शानदार जीत दर्ज की है और आप के खाते में 27 सीटें गई हैं.

  चेक बाउंस के केसों में इलेक्ट्रोनिक-समन को मिले मान्यता, सुप्रीम कोर्ट में सिफारिश

सूरत (Surat) में कांग्रेस अपना खाता तक नहीं खोल पाई. मुख्यमंत्री (Chief Minister) विजय रूपाणी के गृह नगर राजकोट (Rajkot) नगर निगम की 72 सीटों में से भाजपा ने 68 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि कांग्रेस को केवल 4 सीटों से संतोष करना पड़ा. वडोदरा (Vadodara)महानगर पालिका में भाजपा 69 और कांग्रेस को 7 सीटों पर विजय मिली. जामनगर नगर निगम की 64 सीटों में भाजपा ने 50, कांग्रेस ने 11 और 3 सीटों पर बहुजन समाज पार्टी (बसपा) उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की. जामनगर में पहली बार मायावती की पार्टी बसपा ने जीत हासिल की है. वहीं भावनगर नगर निगम की 52 में से भाजपा ने 44 और कांग्रेस ने 8 सीटों पर विजय पाई है.

  ऐसे खिलौने बनाए जो इकोलॉजी और मनोविज्ञान दोनों के लिए ही बेहतर हों: पीएम मोदी

2015 के चुनाव के मुकाबले कांग्रेस ने मौजूदा नगर निगम के चुनाव में करीब 124 सीटें गंवा दी हैं. 2015 के नगर निगम चुनाव में कांग्रेस को पाटीदार आंदोलन का फायदा हुआ था और उसे 174 सीटों जीत दर्ज की थी. जबकि भाजपा के खाते में करीब 390 सीटें गई थीं. मौजूदा चुनाव में भाजपा ने 483 सीटों पर शानदार जीत दर्ज की है. वहीं कांग्रेस को केवल 55 सीटों पर संतोष करना पड़ा है. 6 नगर निगमों की कुल 576 सीटों में भाजपा को 483, कांग्रेस को 55, आप को 27, एआईएमआईएम को 7, बसपा को 3 और एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार ने जीती है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *