Tuesday , 24 November 2020

Youtube पर एड दिखाने पर क्रिएटर्स को नहीं मिलेंगे पैसे, Youtube की पॉलिसी में बड़ा बदलाव


नई दिल्ली (New Delhi) . पॉप्युलर वीडियो शेयरिंग प्लैटफॉर्म यूट्यूब की पॉलिसी में एक बड़ा बदलाव किया गया है. अब कई क्रिएटर्स के वीडियोज पर ऐड दिखाए जाने के बावजूद उन्हें पैसे नहीं दिए जाएंगे. क्रिएटर्स के लिए यह एक बुरी खबर हो सकती है. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि नए मॉनेटाइजेशन रूल्स के हिसाब से अगर क्रिएटर यूट्यूब के पार्टनर प्रोग्राम का हिस्सा नहीं है, फिर भी उसके वीडियो पर ऐड दिखाए जा सकते हैं.

  जो भी भाजपा कार्यकर्ताओं को निशाना बनाएगा उससे हिंसा से ही निपटा जाएगा : दिलीप घोष

यूट्यूब की ओर से प्लैटफॉर्म के टर्म्स ऑफ सर्विसेज को अपडेट किया गया है. अब तक किसी भी यूट्यूब वीडियो पर ऐड दिखते थे, तो उसके क्रिएटर को बदले में पैसे दिए जाते थे लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. यानी कि अब किसी वीडियो पर ऐड दिखने का मतलब क्रिएटर को पैसे मिलने की गारंटी नहीं है. नए अपडेट का असर उन छोटे क्रिएटर्स पर पड़ेगा जिनके वीडियोज खूब देखे जाते हैं. यूट्यूब ने ऑफिशल स्टेटमेंट में कहा, ‘आज से शुरू करते हुए हम धीरे-धीरे उन चैनल्स के कुछ वीडियोज पर भी ऐड दिखाएंगे जो वायपीपी (यूट्यूब पार्टनर प्रोग्राम) का हिस्सा नहीं हैं. इसका मतलब है कि अगर आप वायपीपी (यूट्यूब पार्टनर प्रोग्राम) में शामिल क्रिएटर नहीं हैं, तब भी आपके वीडियोज पर ऐड्स दिख सकते हैं.’

  एशिया में कोरोना की 'दूसरी लहर' के लिए तैयार हो जाएं, रेमडेसिविर का न करें उपयोग : WHO

यूट्यूब का कहना है कि प्रोग्राम का हिस्सा ना होने के चलते क्रिएटर्स को तब तक ऐड का रेवन्यू नहीं मिलेगा, जबतक वे रिक्यॉरमेंट को पूरा करते हुए अपना चैनल मॉनिटाइज नहीं करते. दरअसल, यूट्यूब पार्टनर प्रोग्राम का हिस्सा बनने के लिए क्रिएटर के कम से कम 1000 सबस्क्राइबर्स होने चाहिए और 12 महीने के अंदर 4000 घंटे का वॉचटाइम उसके वीडियोज पर होना चाहिए. कंपनी की ओर से नए टर्म्स ऑफ सर्विसेज यूनाइटेड स्टेट्स में रोलआउट किए गए हैं लेकिन दुनियाभर के बाकी मार्केट्स में भी अगले साल के आखिर तक ये शर्तें लागू हो जाएंगी.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *