दिल्ली हिंसा: भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई करने की मांग की


नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली हिंसा मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद गौतम गंभीर ने कपिल मिश्रा पर कार्रवाई करने की मांग की है. गौतम गंभीर ने कहा कि कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह इंसान कौन है, चाहे वह कपिल मिश्रा हो या कोई भी, किसी भी पार्टी से संबंधित हो, अगर उसने कोई भड़काऊ भाषण दिया है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए. दरअसल, पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर आज भजनपुरा-मौजपुर हिंसक घटना में घायल डीसीपी अमित शर्मा का हालचाल पूछने के लिए पटपड़गंज मैक्स हॉस्पिटल पहुंचे.

जाफराबाद हिंसा में डीसीपी अमित शर्मा गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिसके बाद सोमवार देर रात उनको मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया. फिलहाल, अमित शर्मा की हालत गंभीर बनी हुई है. दो दिन से लगातार दिल्ली में हो रही हिंसा पर भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि नार्थ ईस्ट जिले में जो लोग हिंसा में शामिल हैं, चाहे वह कांग्रेस, आम आदमी पार्टी से लेकर किसी भी पार्टी में हो, उनके खिलाफ मुकदमा किया जाएगा. अगर कपिल मिश्रा का भी हाथ होगा तो उनके खिलाफ भी मुकदमा करेंगे.

  एक हजार श्रमिकों को गुजरात सीमा पर छोड़ गई राजस्थान पुलिस

कपिल मिश्रा ने क्या कहा था

दरअसल, 22 जनवरी को शाहीन बाग के बाद जाफराबाद और चांद बाग में रोड बंद किए जाने के खिलाफ सड़क पर उतरे कपिल मिश्रा ने धमकी दी थी कि दिल्ली पुलिस तीन दिन के अंदर रास्तों को खाली कराए. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे के बाद वापस जाने तक हम यहां से शांतिपूर्वक जा रहे हैं, लेकिन अगर तीन दिन में रास्ते खाली नहीं हुए, तो हम फिर सड़कों पर उतरेंगे. इसके बाद हम दिल्ली पुलिस की नहीं सुनेंगे. कपिल मिश्रा के बयान के बाद हिंसा भड़क उठी. इस बीच पूरे उत्तर पूर्वी जिले में 1 महीने के लिए धारा 144 लगा दी गई है.

  हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस समेत तमाम जज और न्यायालयीन कर्मी मुख्यमंत्री राहत कोष में देंगे एक दिन का वेतन

तो वहीं मरने वालों की संख्या 8 तक जा पहुंची है. उत्तर पूर्वी जिले में हिंसा की शुरुआत 22 जनवरी से हुई थी. जाफराबाद से शुरू हिंसा की जो आग भड़की, धीरे-धीरे अब वो दूसरे इलाकों में भी फैलती जा रही है. सोमवार को उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में जमकर उपद्रव हुआ. इस हिंसा की चपेट में आने से 100 से अधिक लोग घायल हैं. इसके अलावा सात लोगों की मौत हो गई, जिसमें हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल भी शामिल है. आज फिर सुबह उपद्रवियों ने 5 बाइकों को आग के हवाले कर दिया. इलाके में हालात अभी भी तनावपूर्ण बने हुए हैं. भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है.

  महानगरों और महाराष्ट्र के कई शहरों से मजदूरों का पलायन जारी

Check Also

सीएम योगी को तोड़नी पड़ी परम्‍परा, पहली बार रामनवमी पर गोरखनाथ मंदिर में नहीं

गोरखनाथ . एक बार फिर गोरक्षपीठाधीश्‍वर और सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने लोककल्‍याण के लिए परम्‍परा …