पुलिस महानिदेशक राजस्थान ने दिया पुलिस अधिक्षकों को निर्देश, मृत्युभोज पर सुनिश्चित करें

चित्तौड़गढ़. राजस्थान (Rajasthan) के पुलिस (Police) महानिदेशक (अपराध) जयपुर (jaipur) द्वारा अपने पत्रांक 5701-73 दिनांक 3-7-2020 द्वारा समस्त उपायुक्त, पुलिस (Police) तथा समस्त पुलिस (Police) अधीक्षक राजस्थान (Rajasthan) को लिखा जाकर निर्देशित किया कि राजस्थान (Rajasthan) मृत्युभोज निवारण अधिनियम 1960 की पालना करायी जावें तथा यह भी निर्देशित किया कि मृत्युभोज होने की सूचना न्यायालय को दिए जाने का दायित्व पंच, पटवारी, सरपंच को दिया गया है. प्रावधान का उल्लंघन करने पर दण्ड का प्रावधान किया गया है. उक्त अधिनियम की पालना सुनिश्चित करायी जावें.

ज्ञात हो कि चित्तौडगढ निवासी स्वतंत्र लेखक एवं सामाजिक कार्यकर्ता तथा मृत्युभोज को पूर्णतया बन्द कराने की अगुवाई करने वाले मदन सालवी ‘‘ओजस्वी’’ ने मृत्युभोज निवारण की पालना हेतु राज्य के मुख्य न्यायाधीश, मुख्य सचिव तथा राज्य के पुलिस (Police) महानिदेशक को पत्र लिखा था जिसकी पालना मे उक्त आदेश जारी करने पर ओजस्वी ने राज्य के पुलिस (Police) महानिदेशक के प्रति आभार एवं धन्यवाद ज्ञापित किया तथा चित्तौडगढ जिले के बेगूं में पदस्थ न्यायिक मजिस्टेªट विकास गजराज तथा पूर्व मे डूंगला मे कार्यरत रहे न्यायिक मजिस्टेªट ब्रजेश पंवार तथा चित्तौडगढ़ मे न्यायाधीश (judge) सुशील ओझा तथा इसमें जागरूकता लाने वाले समस्त सामाजिक कार्यकर्ताओं, पदाधिकारीयों का भी आभार व्यक्त किया.

  कोरोना अपडेट: भारत में 22 लाख 64 हजार से अधिक मामले

ओजस्वी ने बताया कि राजस्थान (Rajasthan) मे सभी पुलिस (Police) अधीक्षकों को, सभी थानाधिकारीयों को मृत्युभोज कहीं भी नही हो इस हेतु अलर्ट कर दिया गया है. अतः कोई भी, कहीं भी यदि मृत्युभोज करेगा तो उसे सजा होगी. मृत्युभोज किये जाने से गरीब लोगों के मकान, जर-जेवर, जमीन, सभी कुछ बिक जाने एवं कंगाल होने तथा मासुम बच्चों को मजबुर एवं मजदूर होने के हालात देखकर ओजस्वी ने मृत्युभोज बन्द कराने का बिड़ा वर्षो से निरन्तर उठा रखा है.

  IPL के नए प्रायोजक का ऐलान 18 अगस्त को

वर्तमान मे मृत्युभोज पुरी तरह से बन्द हो इसके लिए अनेक समाज एवं सामाजिक संगठन आगे आये है. सभी युवाओं से आव्हान है कि कहीं भी मृत्युभोज हो उसकी सूचना तुरन्त ही पटवारी, सरपंच, वार्ड पंच, पार्षद, को दे तथा न्यायालय एवं पुलिस (Police) को दे. साथ ही अब कहीं भी मृत्युभोज नही हो इसकी जिम्मेदारी वार्डपंच, सरपंच, पटवारी, एवं पार्षदगण जिम्मेदार होगें. साथ ही मृत्युभोज मे यदि कोई भी सरकारी कर्मचारी, अधिकारी, शामिल होता है एवं सूचना पुलिस (Police) एवं न्यायालय को नही देने पर सजा हो सकती है.

  ब्रिटिश सिख एसोसिएशन ने अलग खालिस्तान की मांग करने वालों को ब्रिटिश पासपोर्ट छोड़ने की सलाह दी

Check Also

अक्षय कुमार फोर्ब्स टॉप 10 लिस्‍ट में शामिल

न्यू यॉर्क . फोर्ब्स ने टॉप 10 हाईएस्ट पेड एक्टर्स 2020 की लिस्ट जारी कर …