लोगों के करोड़ों रुपए हजम करने वाला नवजीवन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी का निदेशक गिरफ्तार

उदयपुर (Udaipur). दिनांक 05.09.2019 को प्रार्थी श्यामसुन्दर पिता स्व मोहनलाल जी पुरोहित निवासी 115 शास्त्री नगर, खैमपुरा, प्रतापनगर ने थाना प्रतापनगर पर रिपोर्ट दी कि मैं मूलरुप से चितौडगढ का निवासी हूॅ. मैं किसी कार्य से चितौडगढ गया था. वहां पर जानकारी में आया कि नवजीवन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी के मीरानगर चितौडगढ ब्रांच ऑफिस में निवेश सम्बन्धित आकर्षक स्कीम, योजना में उंची ब्याज के सम्बन्ध में जानकारी दी जा रही थी.

ऑफिस पहुचने पर वहां पर मौजुद प्रबन्धक निवेशक गिरधर सिहं पिता मगसिंह सोढा निवासी जयसिन्दर, शिव, बाडमेर व खुमाण सिहं पिता रणसिहं मुख्य प्रबन्धक फंडस नवजीवन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी 166 राजपूतो का पाडा, जयसिन्दर, शिव, बाडमेर व चीफ जनरल मैनेजर जोगीन्दर सिहं पिता अजूर्न सिहं इन्द्रा कॉलोनी, बाडमेर ने नव जीवन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी में कई आकर्षक स्कीम देकर पैसा दुगना करने की योजना का मिथ्या आश्वासन दिया. उस रोज मैने निवेश नही किया पर हैड ऑफिस बाडमेर से लगातार कॉल आये और झूठा आश्वासन देकर निवेश करने हेतु उत्प्रेरित किया. जिसकी वजह से 7,00,000रुपये की एफडीआर करवाई. 25 माह बाद परिपक्कवता पर सोसायटी द्वारा 8,82,000 रुपये दिये जाने थे. परिपक्कवता की तारीख आने पर हैड ऑफिस व ब्रांच ऑफिस में सम्पर्क करने पर पैसे देने में टालमटोल करने लगे व काफी प्रयास व मन्नते करने पर चैक जारी कर दिया. जिसे भुगतान हेतु बैंक (Bank) मंे प्रस्तुत करने पर अकाउन्ट ब्लॉक आया. वगैरा रिपोर्ट पर प्रकरण संख्या 565/2019 धारा 420,406,120बी भादस के तहत प्रकरण पंजिबद्व किया जाकर अनुसंधान प्रारम्भ किया गया.

  धर्म और धरोहरें

जिला पुलिस (Police) अधीक्षक कैलाशचन्द्र विश्नोई द्वारा प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुये घटना का पर्दाफाश कर घटना कारित करने वाले अभियुक्तों की गिरफतारी के निर्देश दिये थे. जिसपर विवेक सिंह थानाधिकारी प्रतापनर मय टीम द्वारा अनुसंधान एवं संकलित साक्ष्यों से उक्त तीनों अभियुक्तों के विरूद्व जूर्म धारा 420,406,120बी भादस का अपराध प्रमाणित पाया गया. जिसपर अभियुक्त गिरधर सिंह के दिगर आपराधिक प्रकरण से बिलाडा उप कारागृह जोधपुर (Jodhpur) में निरूद्व होने से जरिये प्रोडक्शन वारंट से प्राप्त कर नियमानुसार गिरफ्तार किया गया. अभियुक्त गिरधर सिंह द्वारा नवजीवन क्रेडिट कॉपरेटिव सोसायटी के नाम से कंपनी शुरू कर अलग-अलग लुभावनी स्कीमों मंे ब्याज का लालच देकर राजस्थान, गुजरात (Gujarat) में सोसायटी की ब्रांचे खोलकर सैकडों लोगो से अपनी-अपनी सोसायटी में करोडो रूपयों का निवेश करवा कर बाद में रूपये हडप लिये एंव सोसायटी की ब्रांचे बंद कर फरार हो गया. अभियुक्त गिरधर सिंह पीसी रिमाण्ड प्राप्त कर प्रकरण में अनुसंधान जारी है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *