डीएमके ने कन्याकुमारी लोकसभा सीट के साथ ही तमिलनाडु की 25 विधानसभा सीटें कांग्रेस को दीं

चेन्नई (Chennai) . सीटों के बंटवारे को लेकर कई दिनों तक चले विचार-विमर्श के बाद द्रमुक ने कांग्रेस को रविवार (Sunday) को 25 विधानसभा सीटें और कन्याकुमारी लोकसभा (Lok Sabha) सीट दीं. द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन और तमिलनाडु (Tamil Nadu) कांग्रेस समिति प्रमुख के एस अलागिरी ने छह अप्रैल को होने वाले विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) के लिए सीटों के बंटवारे को लेकर यहां द्रमुक मुख्यालय ‘अन्ना अरिवालयम’ में समझौते पर हस्ताक्षर किए.

कांग्रेस नेता एवं पार्टी की तमिलनाडु (Tamil Nadu) इकाई के प्रभारी दिनेश गुंडु राव ने संवाददाताओं से कहा कि जब देश भाजपा से ‘खतरे’ का सामना कर रहा है, ऐसे में ‘‘सहयोग की भावना’’ के तहत समझौते पर हस्ताक्षर किए गए. राव ने कहा कि उनका एकमात्र लक्ष्य द्रमुक नीत धर्मनिरपेक्ष मोर्चे की जीत सुनिश्चित करना है. उन्होंने कहा, ‘‘संतुष्ट एवं असंतुष्ट होने का समय पूरा हो गया है. अब हम युद्धक्षेत्र में हैं. हमें अपने विपक्षियों से मुकाबला करना होगा.’’ उन्होंने कहा कि द्रमुक का प्रस्ताव स्वीकार करने का निर्णय सभी वरिष्ठ नेताओं एवं आला कमान से विचार-विमर्श के बाद लिया गया और ‘‘इस मामले पर हमारी पार्टी के भीतर कोई मतभेद नहीं है’’.

  जेंडर संवाद का मकसद राज्यों से जमीनी स्तर की आवाजों को सुनना और उनके अनुभवों को जानना भी है

अलागिरी ने कहा, ‘‘हम पूरी तरह संतुष्ट हैं.’’ राव ने कहा कि भगवा दल के खिलाफ केवल विचारधारा की लड़ाई नहीं है, बल्कि यह उसके चंगुल से ‘‘लोकतंत्र को बचाने’’ की जंग हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि देश को ‘‘तानाशाही’’ की तरह चलाया जा रहा है और विपक्षी दलों की निर्वाचित सरकारों को अपदस्थ कर दिया गया है. हाल में, पड़ोसी पुडुचेरी में कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे के बाद पार्टी की सरकार ने बहुमत खो दिया और मुख्यमंत्री (Chief Minister) वी नारायणसामी के मंत्रिमंडल को इस्तीफा देना पड़ा. राव ने आरोप लगाया कि भाजपा विपक्षी दलों को अस्थिर और समाप्त करने के लिए ‘‘धन और सरकारी’’ ताकत का इस्तेमाल कर रही है.

  कश्मीर पर बातचीत के लिए दुबई में मिले थे रॉ और ISI अफसर

उन्होंने कहा, ‘‘तमिलनाडु (Tamil Nadu) में भी उसका एजेंडा यही है. राव ने कहा, ‘‘देश इस समय बहुत खतरनाक स्थिति में है. उन्होंने कहा कि तमिलनाडु (Tamil Nadu) में द्रमुक, कांग्रेस, वाम और क्षेत्रीय संगठनों का धर्मनिरपेक्ष मोर्चा देशभर में संदेश भेजेगा कि जब समान सोच वाले दल हाथ मिलाते हैं, तो ‘‘फासीवादी ताकतों’’ को अपने पैर जमाने से रोका जा सकता है. राव ने कहा कि कांग्रेस हमेशा लोकतांत्रिक सिद्धांतों के साथ खड़ी होती है.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *