डॉक्टर का शव रेल ट्रैक के पास मिला


नई दिल्ली . दिल्ली से सटे ट्रांस हिंडन के लिंक रोड थाना क्षेत्र के रामप्रस्थ से 19 फरवरी की शाम लापता हुए चिकित्सक का शव शनिवार को महाराजपुर में रेलवे लाइन के पास क्षत-विक्षत मिला है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. पुलिस उनकी मौत का कारण ट्रेन की चपेट में आना मान रही है लेकिन यह दुर्घटना, हत्या या आत्महत्या है इस दिशा में जांच कर रही है.

  जिन शहरों ने पहले लॉकडाउन किया वहां कम मौतें, मामला स्पेनिश फ्लू की महामारी के समय का

शनिवार शाम करीब पांच बजे महाराजपुर रेलवे फाटक के पास एक गोवंश ट्रेन की चपेट में आ गया. स्थानीय निवासी मौके पर पहुंचे, तो रेलवे लाइन के किनारे झाड़ियों में एक व्यक्ति का क्षत-विक्षत शव देखा. लोगों ने इसकी पुलिस को सूचना दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच की, तो शव रामप्रस्थ कॉलोनी से बुधवार रात में लापता हुए डॉ. यतींद्र रस्तोगी (49) की निकली. पुलिस ने शव को कब्जे में कर लिया और परिजनों को इसकी सूचना दी. रामप्रस्थ कॉलोनी में रहने वाली डॉ. शिखा रस्तोगी ने लिंक रोड थाना पुलिस को बताया था कि बुधवार रात करीब पौने दस बजे उनके पति डॉ. यतींद्र रस्तोगी कॉलोनी के सिटी सेंटर मार्केट से कुछ सामान लेने गए. वह वापस नहीं लौटे. उनकी शिकायत पर शुक्रवार को रिपोर्ट दर्ज हुई थी.

  संदिग्ध कोरोना संक्रमित एक ट्रक खलासी की मौत

पुलिस डॉ. यतींद्र की तलाश कर रही थी. इस बीच शनिवार शाम को उनका शव बरामद हुआ. लिंक रोड थाना प्रभारी निरीक्षक देवेंद्र सिंह बिष्ट ने बताया है कि प्रथम दृष्टया लग रहा है कि डॉक्टर की मौत ट्रेन की चपेट में आने से हुई है. उनके ट्रेन के चपेट में आने के कारणों की जांच की जा रही है. जांच में आया है कि डॉक्टर यतींद्र फिजिशियन थे और दिल्ली के जगतपुरी में क्लीनिक चलाते थे.

  कोरोना वायरस ने वाघा-अटारी बार्डर पर भी दी दस्तक

Check Also

सीएम योगी को तोड़नी पड़ी परम्‍परा, पहली बार रामनवमी पर गोरखनाथ मंदिर में नहीं

गोरखनाथ . एक बार फिर गोरक्षपीठाधीश्‍वर और सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने लोककल्‍याण के लिए परम्‍परा …