डोनाल्ड ट्रंप लोकतंत्र के लिए बहुत बड़ा खतरा, उनके खिलाफ लाया जाएगा महाभियोग : पेलोसी

वाशिंगटन . अमेरिकी संसद की अध्यक्ष नैन्सी पेलोसी ने कहा कि सदन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही करेगा. वहीं, उन्होंने उपराष्ट्रपति और कैबिनेट से भी ट्रंप को बाहर करने के लिए कदम उठाने का आग्रह करते हुए कहा कि ट्रंप लोकतंत्र के लिए बहुत बड़ा खतरा हैं. पेलोसी ने एक पत्र में सहयोगियों से कहा कि सबसे पहले सदन में मतदान होगा, ताकि उपराष्ट्रपति माइक पेंस, ट्रंप को पद से हटाने के लिए 25वें संशोधन के तहत प्राप्त शक्तियों को उपयोग करें. उन्होंने कहा 24 घंटे बाद सदन में महाभियोग के लिए विधेयक लाया जाएगा.

इसके साथ ही महाभियोग की दो बार कार्यवाही का सामना करने वाले ट्रंप इकलौते राष्ट्रपति बन जाएंगे. पेलोसी ने कहा हमारे संविधान और हमारे लोकतंत्र की रक्षा के लिए हमें तुरंत कदम उठाना होगा, क्योंकि राष्ट्रपति ट्रंप के पद पर बने रहने से लोकतंत्र और संविधान को खतरा है. सोमवार (Monday) को पेलोसी के नेतृत्व वाली टीम 25वां संशोधन लागू करने के लिए पेंस और कैबिनेट के मंत्रियों से एक प्रस्ताव पर वोट करने को कहेगी. चूंकि संसद का सत्र नहीं चल रहा है, इसलिए इसके विचार पर आपत्ति आ सकती है.

  बाइडन के शपथ से पहले वाशिंगटन में बढ़ाई सुरक्षा व्यवस्था

इसके बाद पेलोसी मंगलवार (Tuesday) को पूर्ण सदन के सामने प्रस्ताव रखेंगी. अगर इसे पारित करना है तो पेंस और कैबिनेट के पास सदन में महाभियोग की कार्यवाही से पहले 24 घंटे का समय होगा. महाभियोग की प्रक्रिया तेज होने के साथ ट्रंप पर अपने कार्यकाल के पहले ही पद छोड़ने का दबाव बढ़ गया है. कैलिफोर्निया के पूर्व गवर्नर अर्नोल्ड श्वार्जेनेगर ने यूएस कैपिटल में ट्रंप समर्थकों के हंगामे और हिंसा की तुलना नाजियों से की है और डोनाल्ड ट्रंप को एक नाकाम अमेरिकी नेता बताया है, जो इतिहास में अब तक के सबसे खराब राष्ट्रपति के तौर पर जाने जाएंगे.

  किसान आंदोलन के समर्थन में सभी विधायकों को अपने पदों से तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए - अनूप सिंह

रिपब्लिकन नेता ने सोशल मीडिया (Media) पर एक वीडियो जारी कर कहा कि बुधवार (Wednesday) को अमेरिका में जो भी हुआ उसने नाजियों के ‘नाइट ऑफ ब्रोकन ग्लास’ की याद दिला दी. उल्लेखनीय है कि वर्ष 1938 में नाजियों ने जर्मनी और ऑस्ट्रेलिया में हमले के दौरान यहूदियों के घरों, स्कूलों और कारोबारी संस्थानों पर तोड़फोड़ की थी जिसे ‘क्रिस्टलनाट या नाइट ऑफ ब्रोकन ग्लास’ कहते हैं. अप्रत्याशित घटनाक्रम में अमेरिकी राजनयिकों ने दो दस्तावेज तैयार कर कैपिटल बिल्डिंग (संसद भवन) में हमले के लिए ट्रंप द्वारा समर्थकों को उकसाने की निंदा की है और उन्हें पद से हटाने के लिए 25वें संशोधन का समर्थन करने को कहा है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *