लॉकडाउन के बाद भी प्रवासी श्रमिकों को रास आ रहा है हमारा उदयपुर, साढ़े सात हजार से अधिक जाने को तैयार नहीं

उदयपुर (Udaipur). वैश्विक महामारी (Epidemic) घोषित हो चुके कोरोना (Corona virus) के संक्रमण की संभावनाओं के कारण घोषित लॉकडाउन (Lockdown) अवधि में उदयपुर (Udaipur) जिले में प्रवासरत देश के 10 से अधिक राज्यों के श्रमिकों को जिला प्रशासन द्वारा उनके गृहराज्य में भेजने के लिए आमंत्रित करके अधिकांश श्रमिकों को स्पेशन ट्रेन व बसों के माध्यम से भले ही भेजा जा चुका हो तथापि 7 हजार 546 प्रवासी श्रमिक ऐसे हैं जो प्रशासन के आमंत्रण के बावजूद अपने गृह राज्य में लौटने के स्थान पर उदयपुर (Udaipur) में ही रहने की ईच्छा जताते हुए आजीविका अर्जन में जुट गए हैं.

अतिरिक्त जिला कलक्टर (District Collector) (प्रशासन) ओ.पी. बुनकर ने बताया कि राज्य सरकार (Government) के निर्देशानुसार अन्य राज्यों के प्रवासियांे को उनके गन्तव्य राज्यों तक पहुँचाने एवं अन्य राज्यों से उदयपुर (Udaipur) के प्रवासियों को वापस लाने का कार्य जिला कलक्टर (District Collector) श्रीमती आनंदी के निर्देशन में जिला प्रशासन की टीम पूर्ण उत्साह के साथ कर रही है. अब तक समन्वित प्रयासों से जिले में रह रहे 16 हजार 278 प्रवासियों को उनके गृह राज्य में भेजा जा चुका है, इनमें से 15 हजार 179 श्रमिकों को 12 स्पेशल ट्रेन से तथा बसों से 1 हजार 99 श्रमिकों को उनके गंतव्य तक भेजा गया है.

  भारत में 2021 की सर्दियों में रोजाना आ सकते हैं COVID-19 के 2.87 लाख मामले

10 राज्यों के 7 हजार 546 श्रमिक अभी भी यहां

बुनकर ने बताया कि राज्य सरकार (Government) के निर्देशों पर प्रशासन द्वारा जिले में रह रहे कुल 23 हजार 824 प्रवासियों को उनके गृह राज्य भेजने के लिए आमंत्रण भेजा गया था, इसमें से 16 हजार 278 प्रवासियों ने ही सरकार (Government) की ओर से की गई व्यवस्था के अनुरूप रेल तथा बसों से अपने गृह राज्यों के लिए प्रस्थान किया. उन्होंने बताया कि इसके बावजूद वर्तमान में उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखण्ड, पश्चिमी बंगाल, ओडिशा, जम्मू कश्मीर आदि राज्यों के 7 हजार 546 प्रवासी अपने घर नहीं जाकर उदयपुर (Udaipur) जिले में ही प्रवासरत है और अपने पूर्व कार्यक्षेत्रों में काम में जुट गए है वहीं ऐसे प्रवासियों को जिला प्रशासन द्वारा जिला उ़द्योग केन्द्र के माध्यम से विभिन्न इकाइयों में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं. इधर, जिला उद्योग केन्द्र की महाप्रबंधक द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार जिले में एमएसएमई की 820 इकाइयों में 8541 श्रमिक कार्यरत है जिनमें से 935 प्रवासी कार्य कर रहे है. वहीं वृहद स्तर की 24 इकाइयों में 4804 श्रमिकों में 385 प्रवासी श्रमिक कार्यरत है. जिले में अब धीरे-धीरे औद्योगिक इकाईयां प्रारंभ हो रही है और श्रमिकांे को रोजगार मिल रहा है.

  सूरमा भोपाली के नाम से प्रसिद्ध ऐक्‍टर जगदीप नहीं रहे

Check Also

रीवा अल्‍ट्रा सोलर प्रोजेक्‍ट को लेकर बयानबाजी

पीएम ने रीवा सौर ऊर्जा परियोजना को बताया एशिया में सबसे बड़ा, राहुल ने किया …