सूरजकुंड में आयोजित 16 दिवसीय सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला में राजस्थान के लोक कलाकारों की धूम


नई दिल्ली. नई दिल्ली के निकट सूरजकुंड में आयोजित 16 दिवसीय सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला में राजस्थान के लोक कलाकारों की धूम मची हुई है. मेला परिसर में राजस्थान का मंडप आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. राजस्थान पर्यटन विभाग की अतिरिक्त निदेशक डॉ. गुंजीत कौर ने बताया कि मेला स्थल पर राजस्थान के पर्यटन, कला एवं संस्कृति के साथ-साथ प्रदेश के समृद्ध इतिहास एवं हेरिटेज का दिग्दर्शन करवाने वाले राजस्थान पर्यटन विभाग के स्टाल पर दर्शकों की भारी भीड़ उमड़ रही है. मेला स्थल पर लगे स्टाॅल पर दर्शको ने राजस्थान की संस्कृति के विभिन्न रंगों को निहारा.

  मास्क-सैनिटाइजर की कालाबाज़ारी पर सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रवैया अपनाया

उन्होंने बताया कि सूरजकुंड हस्तशिल्प मेला में विभिन्न राज्यों के 1200 से अधिक स्टाॅल लगाए गए हैं. आगामी 16 फरवरी तक चलने वाले इस मेले में विभिन्न राज्यों सहित विदेश के विभिन्न प्रतिभागी भी भाग ले रहे हैं. उन्होंने बताया कि प्रदेश की हस्तशिल्प स्टाल का अवलोकन के अतिरिक्त लोग राजस्थानी व्यंजनों का भी खूब आनंद ले रहे हैं. राजस्थानी शेफस द्वारा बनाए गए राजस्थान के पारंपरिक व्यंजनों यथा दाल-बाटी-चूरमा, गट्टे की सब्जी, कैर सांगरी की सब्जी, मूंग की दाल और प्याज की कचैरी, जलेबी आदि का स्वाद लोगों को खूब पसंद आ रहा है.

  पुलिसकर्मी की मृत्यु होने पर सरकार देगी 50 लाख रुपये की ‘अनुग्रह राशि’

सांस्कृतिक संध्या का आयोजन

डॉ गुंजीत कौर ने बताया कि मेला परिसर में बने चौपाल पर 15 फरवरी को राजस्थान के लोक कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए. उन्होंने बताया कि प्रदेश की हस्तशिल्प के अतिरिक्त राजस्थानी व्यंजनों का भी लोग खूब आनंद ले रहे हैं. राजस्थानी शेफ द्वारा बनाए गए राजस्थान के पारंपरिक व्यंजन यथा दाल-बाटी-चूरमा, गट्टे की सब्जी, कैर सांगरी की सब्जी, मूंग की दाल और प्याज की कचैरी, जलेबी आदि का स्वाद लोगों को खूब पसंद आ रहा है.

  कोरोना का असर रोकने के लिए मक्का और मदीना में 24 घंटे का कर्फ्यू लगाया

Check Also

क्वारनटीन सेंटर से निकलकर गेहूं पिसवाने पंहुचा युवक तो पुलिस ने पीटा, किया सुसाइड

लखीमपुर. उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के फरिया पिपरिया गांव से एक सनसनीखेज मामला …