NPR पर गृह मंत्रालय की बैठक से बंगाल ने किया किनारा, केरल भी भड़का


नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन एक्ट पर जारी बवाल के बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आज एक अहम बैठक बुलाई है. इस बैठक में नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) पर चर्चा हो रही है. बैठक में बंगाल को छोड़कर सभी राज्यों के सचिव, जनगणना अधिकार शामिल हुए हैं. इस बैठक में पश्चिम बंगाल के किसी अधिकारी ने हिस्सा नहीं लिया है. पश्चिम बंगाल की ओर से लिखित में इस बैठक का बहिष्कार करने की बात कही गई है. एनपीआर, सीएए के मसले पर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी लगातार आंदोलन चला रही हैं. एनपीआर की प्रक्रिया शुरू होने से पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय सभी राज्यों से मिलकर रणनीति तैयार करना चाहता है.

  डोनाल्ड ट्रंप के सम्मान में सड़क पर महारास के आयोजन पर कलाकारों ने जताई आपत्ति

केंद्रीय गृहराज्य मंत्री नित्यानंद राय, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला की अगुवाई में होने वाली इस बैठक में जनगणना पर विस्तार से चर्चा की जा रही है. राज्य सरकारों की ओर से बैठक में मुख्य सचिव और जनगणना निदेशक शामिल हुए हैं. ममता बनर्जी लगातार नागरिकता संशोधन एक्ट, नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर का विरोध कर रही हैं. इसी विरोध के बीच बंगाल से कोई भी अधिकारी इस बैठक में शामिल नहीं हुआ.

बीते दिनों जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बंगाल के दौरे पर थे, तब ममता बनर्जी ने पीएम मोदी से इस बात के बारे में कहा था कि केंद्र सरकार को सीएए, एनआरसी वापस लेना होगा. ममता ऐलान कर चुकी हैं कि बंगाल में यह कानून लागू नहीं होगा. गृह मंत्रालय के मुताबिक, एनपीआर का मकसद देश के निवासियों की व्यापक पहचान का डेटाबेस तैयार करना है. इसमें डेमोग्राफिक तथा बायोमेट्रिक ब्योरे शामिल किए जाएंगे. यह रजिस्टर स्थानीय, उपजिला, जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर नागरिकता कानून, 1955 और नागरिकता (नागरिकों का पंजीयन तथा राष्ट्रीय पहचान-पत्र जारी करना) नियम, 2003 के तहत बनाया जाएगा. नियम के प्रावधानों के उल्लंघन पर 1000 रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान है.

  शाहीन बाग में बैठे प्रदर्शनकारियों से बात करने पहुंचे सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार

उल्लेखनीय है कि एक ओर जहां बंगाल ने बैठक में हिस्सा नहीं लिया है, वहीं दूसरी ओर केरल ने राज्य में एनपीआर प्रक्रिया पर रोक लगा दी है. राज्य सरकार ने जो आदेश जारी किया है, उसमें कहा गया है कि जो भी अधिकारी इस प्रक्रिया पर काम करता पाया जाएगा, उसपर कार्रवाई की जाएगी. हालांकि, केरल गृह मंत्रालय द्वारा बुलाई गई बैठक में शामिल होगा. केरल पहले ही नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ प्रस्ताव पास कर चुका है.

  केन्द्रीय मंत्री जावड़ेकर ने इंडिया/भारत 2020 का लोकार्पण किया

Check Also

जानिये घर में शंख रखने और बजाने के ये हैं ग्यारह आश्चर्यजनक लाभ

प्राचीनकाल से पूजा-पाठ में शंख रखने और बजाने का चलन है. हमारे देश के कई …