Good News फाइजर की वैक्‍सीन ने 99 फीसदी थमा कोरोना, इजरायल के शोध से खुलासा


यरूशलम . जानलेवा वैश्विक महामारी (Epidemic) कोरोना (Corona virus) घातक प्रकोप से जूझ रही दुनिया के लिए इजरायल से खुशखबरी आ रही है. इजरायल में फाइजर की कोरोना (Corona virus) वैक्‍सीन ने बहुत बड़े पैमाने पर कोरोना के संक्रमण को रोक दिया है. इसके साथ ही दुनिया को पहली बार ऐसा वास्‍तविक आंकड़ा मिला है कि जिससे यह संकेत मिलता है कि टीकाकरण कोरोना के संक्रमण को रोकने में सक्षम साबित हुआ है.

इजरायल में 20 दिसंबर को फाइजर की वैक्‍सीन के जरिए राष्‍ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हुआ था जो लैब में करीब 89.4 प्रतिशत प्रभावी रहा था. इन कंपनियों ने इजरायल के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के साथ प्रारंभ‍िक विश्‍लेषण किया था. कुछ वैज्ञानिकों ने इसकी शुद्धता पर सवाल उठाया था. दुनिया में औसतन सबसे ज्‍यादा कोरोना (Corona virus) वैक्‍सीन लगाने वाले इजरायल से अब सकारात्‍मक आंकड़े सामने आए हैं. इजरायल में आधी आबादी को कम से कम कोरोना (Corona virus) वैक्‍सीन की एक डोज मिल गई है. इजरायल के अधिकारियों ने शनिवार (Saturday) को बताया कि फाइजर की कोरोना वैक्‍सीन वायरस से मौतों को रोकने में 99 फीसदी प्रभावी रही है. अगर यह सही है तो यह आंकड़े बहुत उत्‍साह बढ़ाने वाले हैं क्‍योंकि यह वैक्‍सीन अब एसिम्‍प्‍टोमेटिक लोगों को कोरोना (Corona virus) के प्रसार को रोकने में प्रभावी पाई गई है.

  दुनिया के 10 प्रतिशत से भी कम लोगों में विकसित हुई कोरोना वायरस एंटीबॉडी : सौम्या स्वामिनाथन

सिडनी की प्रोफेसर रैना मैकइंट्रे ने कहा, ‘ये वे आंकड़े हैं जिसकी हमें वैक्‍सीन की मदद से हर्ड इम्‍युनिटी का अनुमान लगाने के लिए जरूरत थी.’ फाइजर ने कहा है कि वह इजरायल की मदद से वास्‍तविक आंकड़े हासिल करने पर काम कर रही है. उसने कहा कि जब यह पूरा होगा तब इसे जारी किया जाएगा. ब्लूमबर्ग के वैक्सीन कैलकुलेटर के मुताबिक, उसकी गणना बताती है कि कोरोनावायरस के खात्मे में अभी सात साल का समय और लग सकता है. इस गणना में टीकाकरण की रफ्तार को आधार बनाया गया है.

  स्पर्म व्हेल का मातृत्व : ताउम्र छोटे समूहों में बच्चों की परवाह में गुजार देती हैं

यानी जिस तेजी से दुनियाभर में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है, उसके मुताबिक सभी देशों को अपनी 75 फीसदी आबादी को टीका लगाने में सात साल का वक्त लग जाएगा. आपको बता दें कि 75 फीसदी आबादी को टीका लगने का मतलब हर्ड इम्यूनिटी तक पहुंच जाना है. ऐसा होने पर वायरस का फैलाव रुक जाता है. रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में रोजाना 40 लाख से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जा रहा है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *