Thursday , 28 January 2021

सरकार ने 43 मोबाइल ऐप्स पर लगाया बैन, देश की सुरक्षा के लिए बताया खतरा, दूखिए पूरी लिस्‍ट


नई दिल्ली (New Delhi) . केन्द्र सरकार ने 43 और मोबाइल ऐप्स पर बैन लगा दिया है, जिनमें से अधिकतर चाइनीज हैं. इन्हें देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा के लिए खतरा बताया है. आईटी ऐक्ट की धारा 69A के तहत यह कार्रवाई की गई है. सरकार की ओर से बताया है कि कार्रवाई यह इनपुट मिलने के बाद की गई है कि ये ऐप्स भारत की संप्रभुता, अखंडता, रक्षा, सुरक्षा और कानून व्यवस्था के खिलाफ गतिविधियों में लिप्त हैं.

  अपने आवास पर मुख्यमंत्री योगी ने किया ध्वजारोहण

सरकार ने जिन ऐप्स पर बैन लगाया है उनमें अली सप्लायर्स मोबाइल ऐप, अलीबाबा वर्कबेंच, अली एक्सप्रेस, अलीपे कैशियर, लालामूव इंडिया, ड्राइव विद लालामूव इंडिया, स्नैक वीडियो, कैमकार्ड-बिजनेस कार्ड रीडर, कैम कार्ड- बीसीआर वेस्टर्न, सौउल, चाइनजी सोशल, डेट इन एशिया, वी डेट, फ्री डेटिंग ऐप, एडोर ऐप, ट्रूली चाइनीज, ट्रूली एशियन, चाइना लव, डेट माय एज, एशियन डेट, फ्लर्ट विश, गायज ओनली डेटिंग, टूबिट, वी वर्क चाइना, फर्स्ट लव लाइव, रीला, कैशियर वॉलेट, मैंगो टीवी, एमजीटीवी, वी टीवी, वीटीवी लाइट, लकी लाइव, टाओबाओ लाइव, डिंग टॉक, आईडेंटिटी वी, आईसोलैंड 2, बॉक्स स्टार, हैपी फिश, जेलीपॉप मैच, मंचकिन मैच, कॉनक्विस्टा ऑनलाइन शामिल हैं.

  Delhi-NCR में कुल 1.9 लाख घर 7 साल से अटके पड़े, दूसरे नंबर पर मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन का प्रॉपर्टी मार्केट

आईटी मंत्रालय की ओर से बताया कि इन मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाने का फैसला गृह मंत्रालय (Home Ministry) के इंडियन साइबर क्राइम कोऑर्डिनेशन सेंटर की ओर से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर लिया है. इससे पहले सरकार ने 29 जून को 59 चीनी मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया था. 2 सितंबर को 118 और ऐप्स पर पाबंदी लगा दी गई थी. चीन से सीमा पर तनाव के बीच इस सरकार की इस कार्रवाई को डिजिटल सर्जिकल स्ट्राइक भी कहा जाता है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *