नई प्राइवेसी पॉलिसी वापस लेने भारत सरकार ने Whatsapp को लिखा कड़ा पत्र


नई दिल्ली (New Delhi) . दुनिया के सबसे लोकप्रिय सोशल मीडिया (Media) प्लेटफार्म वॉट्सऐप की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर उठे विवाद के बीच भारत सरकार ने कहा है कि वह अपनी प्राइवेसी टर्म में किए गए बदलावों को वापस ले, क्योंकि कोई भी एकतरफा बदलाव उचित और स्वीकार्य नहीं है. इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने वॉट्सऐप के सीईओ विल कैथार्ट को कड़े शब्दों में लिखे पत्र में कहा कि भारत वैश्विक स्तर पर वॉट्सऐप का सबसे बड़ा उपयोगकर्ता है और उसकी सेवाओं के लिए सबसे बड़ा बाजार है.

  सैन्य कमांडर सम्मेलन में पहली बार शामिल होंगे जवान प्रधानमंत्री मोदी करेंगे संबोधित

पत्र में कहा गया कि वॉट्सऐप की सेवा और गोपनीयता नीति में प्रस्तावित बदलाव भारतीय नागरिकों की पसंद और स्वायत्तता को लेकर गंभीर चिंताएं पैदा करते हैं. मंत्रालय ने वॉट्सऐप से प्रस्तावित बदलावों को वापस लेने और सूचना गोपनीयता, चयन की आजादी तथा डेटा सुरक्षा को लेकर अपने नजरिए पर फिर से विचार करने को कहा. पत्र में कहा गया कि भारतीयों का उचित सम्मान किया जाना चाहिए, और वॉट्सऐप की सेवा, गोपनीयता शर्तों में कोई भी एकतरफा बदलाव उचित और स्वीकार्य नहीं है.

  चुनाव आयोग का फैसला, सीमित संख्या में ही आ पाएंगे स्टार प्रचारक

जानकारी के लिए बता दें कि वॉट्सऐप अपनी प्राइवेसी पॉलिसी में बदलाव को लेकर काफी चर्चा में है. वॉट्सऐप ने यूज़र्स को नई पॉलिसी को एक्सेप्ट करने के लिए 8 फरवरी तक का समय दिया था, हालांकि लोगों का रिएक्शन देखते हुए कंपनी ने फिलहाल इसे टाल दिया है. कुछ यूज़र्स इस अपडेट से नाखुश हो रहे हैं और टेलीग्राम, सिग्नल जैसे दूसरे प्लेटफॉर्म पर शिफ्ट हो रहे हैं. लोगों के नेगेटिव कमेंट को देखते हुए वॉट्सऐप लगातार सफाई दे रहा है.

पहले वॉट्सऐप ने ब्लॉग जारी किया, ट्वीट किया और इसी पिछले हफ्ते पहली बार ऐसा हुआ है कि वॉट्सऐप ने खुद अपना स्टेटस लगाकर सफाई दी है. वॉट्सऐप ने कॉलिंग, प्राइवेट मैसेज, लोकेशन और कॉन्टैक्ट जैसी बातों पर सफाई दी है. वॉट्सऐप ने बताया कि वह यूज़र्स की प्राइवेसी के लिए प्रतिबद्ध हैं. साथ ही ये भी कहा कि वह लोगों के पर्सनल चैट का रिकॉर्ड नहीं रखती है. वह यूज़र की बातों को नहीं सुनता है, क्योंकि ये एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड होती हैं.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *