Tuesday , 15 October 2019
Breaking News

नौकरी सहायता और प्रशिक्षण के लिए सरकार ने तैयार किया वेब पोर्टल

कोलकाता, 30 अगस्त (उदयपुर किरण). पश्चिम बंगाल के बेरोजगार युवाओं की मदद के लिए राज्य सरकार ने दो वेब पोर्टल तैयार किया है. इसमें एक पर युवाओं को नौकरी संबंधी जानकारी दी जाएगी जबकि दूसरे पर आवश्यक प्रशिक्षण की जानकारी रहेगी. राज्य के श्रम विभाग ने शुक्रवार को यह जानकारी दी है. दो वेब पोर्टल में से एक पोर्टल का नाम है आकर्षण और उसका लिंक है- http://elearning.wblabour.gov.in/ दूसरे का नाम है प्रशिक्षण शिविर जिसका लिंक है http://wbdomestichelp.wblabour.gov.in/ आकर्षण अपने आप में पहली पहल है जो राज्य सरकार की नौकरी चाहने वालों को एक मंच प्रदान करती है.

इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि जो भी युवा खुद को रोजगार एक्सचेंज में पंजीकृत कर चुके हैं वे ऑनलाइन राज्य रोजगार बैंक में स्वतः पंजीकृत हो जाते हैं. इसमें प्रतियोगी परीक्षाओं या स्व-रोजगार के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण रोजगार प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों द्वारा आवश्यक सभी सुविधाएं शामिल हैं – ऑनलाइन साइकोमेट्रिक परीक्षण, एक से एक और समूह कैरियर परामर्श सत्र, एंड्रॉइड-आधारित बोली जाने वाली अंग्रेजी स्व-शिक्षण ऐप आदि. कुल मिलाकर 50,000 से अधिक प्रश्नों के साथ विभिन्न विषयों पर बोलो, लाइव-स्ट्रीम विशेष कोचिंग क्लासेस, ऑनलाइन मॉक टेस्ट और प्रश्न बैंक. पोर्टल सीवी लेखन, पारस्परिक कौशल, प्रस्तुति कौशल और उद्यमशीलता की मूल जरूरतों से बना है जो रोजगार दक्षता को विकसित करता है.

  प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा-भारत और चीन के बीच रणनीतिक संचार में सुधार से द्विपक्षीय संबंधों में और अधिक स्थिरता से नई गति मिली

वर्तमान में, पोर्टल की सुविधाएं, नि:शुल्क प्रदान की जा रही हैं, जो छह रोजगार एक्सचेंजों – सिलिगुड़ी, मालदा, कल्याणी, कोलकाता, आसनसोल और बांकुड़ा में नामांकित नौकरी चाहने वालों के लिए उपलब्ध होंगी. बंगला में सभी 71 रोजगार एक्सचेंजों में सुविधाओं को धीरे-धीरे बढ़ाया जाएगा. 2013 में शुरू किए गए रोजगार बैंक में 23 लाख से अधिक लोग नामांकित हैं. लगभग 1.62 लाख लोग पहले ही प्रशिक्षित हो चुके हैं. दूसरा पोर्टल, जिसे प्रशिक्षण शिविर नाम दिया गया है, घरेलू कामगारों को प्रशिक्षित करने के लिए है. हालांकि, ऐसे श्रमिकों के लिए प्रशिक्षण 2012 से ही आयोजित किया जा रहा है और पहले से ही 42,000 लोगों को प्रशिक्षित किया गया है. अब प्रशिक्षण में प्रति दिन पांच घंटे की एक 10-दिवसीय प्रशिक्षण के लिए 250 रुपये प्रतिदिन मिलेंगे.

  लूट और नकबजनी करने वाले गिरोह के 4 आरोपी गिरफ्तार, दो युवक मौका देखकर हुए फरार

कार्यशाला में घरेलू इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, भोजन बनाने और आतिथ्य, प्राथमिक चिकित्सा, सुरक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता, आदि पर प्रशिक्षण दिया जाएगा. इस वेबसाइट के जरिए उम्मीदवार इस तरह के काम के लिए ऑनलाइन नामांकन करने के साथ-साथ पूरे राज्य में प्रशिक्षण कार्यशालाओं के बारे में भी जान सकेंगे और आवेदन कर सकेंगे. घरेलू कामगारों को नियोक्ताओं से जोड़ने हेतु जल्द ही एक मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया जाएगा. श्रम विभाग ने 18 जिलों में एक लाख बेरोजगार युवाओं को ड्राइविंग का प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा है.

  प्रधानमंत्री की मां से मिले राष्ट्रपति कोविंद, हीराबा ने भेंट की चरखे की प्रतिकृति

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News