Thursday , 21 October 2021

हर्षल ने अपनी शानदार गेंदबाजी से खींचा सभी का ध्यान , बुमराह और शमी तक हैं पीछे

दुबई . आईपीएल (Indian Premier League) में इस बार आरसीबी के हर्षल पटेल ने अपनी शानदार गेंदबाजी से सभी का ध्यान खींचा है. हर्षल ने मुंबई (Mumbai) इंडियंस के खिलाफ हैट्रिक लेकर अपनी टीम की जीत में अहम भूमिका भी निभाई है. हर्षल 14 वें सत्र में सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में पहले स्थान पर हैं. हर्षल ने अब तक 10 मैचों में 50 रन देकर 23 विकेट लिए हैं और पर्पल कैप की रेस में भी सबसे आगे हैं.

आईपीएल (Indian Premier League) में टीम इंडिया के मुख्य तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी जैसे गेंदबाज भी उनसे पीछे हैं. यहां तक की उसका स्ट्राइक रेट भी इनसे बेहतर है. इसका कारण उनकी धीमी ऑफ कटर गेंदे मानी जा रहीं हैं.
इस के पहले हर्षल का करियर सामान्य रहा है. उनकी गेंदों में खास तेजी नहीं है और वह 135 किमी से ज्यादा की रफ्तार से गेंदबाजी नहीं करते हैं पर आउट स्विंग गेंदबाजी उन्हें आती है. रफ्तार कम होने की वजह से टी20 प्रारुप में यह गेंद उतनी असरदार नहीं साबित होती.

  पंड्या ओर भुवनेश्वर के खराब फार्म से हो सकता है नुकसान : पार्थिव

सटीक लाइन लेंथ के अलावा हर्षल ने इस सत्र में अपनी यॉर्कर गेंदों को पहले से और बेहतर किया है. इसके अलावा उन्होंने ऑफ कटर को भी शामिल किया है. वो इस सत्र में ऑफ कटर गेंदों का बेहतर इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने मुंबई (Mumbai) इंडियंस के खिलाफ लगातार 3 गेंदों पर 3 विकेट लिए और ये सभी गेंदे धीमीं थीं. उनकी यॉर्कर कभी भी ऑफ स्टम्प नहीं छोड़ती है. इसी वजह से बल्लेबाज उनके खिलाफ जगह बनाकर रैम्प या पिक अप शॉट नहीं खेल पा रहे हैं.
हर्षस की रफ्तार कम है. इसी वजह से धीमी गेंद को मारना और मुश्किल हो जाता है. ऊपर से यूएई की धीमी पिच ने उनकी धामी गेंदों को और घातक बना दिया है. ऐसे में बल्लेबाज को उनकी ऑफ कटर या धामी गेंदों पर शॉट मारने के लिए पूरी ताकत लगानी पड़ती है. इस प्रयास में वह गलती कर जाते हैं.

  सान्वी ने जीता सबजूनियर बालिका वर्ग का खिताब

हर्षल का सबसे बड़ा हथियार ऑफ कटर है. वो इस गेंद को एक्शन, रिस्ट पोजीशन या रिलीज प्वाइंट में बदलाव किए बिना फेंकते हैं. ऐसे में गेंद सतह पर मजबूत पकड़ बनाती है और बल्लेबाज तक रूक कर आती है. वो ऑफ कटर डालने के लिए गति में बहुत ज्यादा बदलाव नहीं करते (औसतन 132 किमी से 115 किमी प्रति घंटे) लेकिन ओवर स्पिन के काऱण अतिरिक्त उछाल मिलती है, जो बल्लेबाज के मुश्किलें लाती है.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *