हिन्दुस्तान जिंक को तीसरी तिमाही में 1,620 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ, तिमाही के दौरान धातु एवं चांदी का रिकाॅर्ड उत्पादन

उदयपुर. हिन्दुस्तान ज़ि‍ंक के मुख्य कार्यकारी अधिकरी सुनील दुग्गल ने कहा कि ‘‘हमने चुनौतियों के बावजूद बाजार वातावरण में उत्कृष्ट प्रदर्शन दिया है और विकास की गति को बनाए रखने के लिए हम प्रतिबद्ध है. हमारा लक्ष्य उद्योग के नेतृत्व को बनाए रखने तथा अपने शेयरधारियों को बेहतर रिटर्न प्रदान करने के लिए सस्टेनेबिलिटी, दक्षता, टेक्नोलाॅजी और डिजिटलीकरण के मूल सिद्वान्तों पर केन्द्रित है.’’

हिन्दुस्तान ज़ि‍ंक के मुख्य वित्तीय अधिकारी स्वयं सौरभ ने कहा कि ‘‘ हमारा लक्ष्य परिचालन क्षमता और उच्च उत्पादकता द्वारा लागत नेतृत्व को बनाए रखना है, आधुनिक टेक्नोलाॅजी अपनाने एवं डिजिटल परिवर्तन से हमारी प्रमुख परियोजनाएं के पूरा होने में सहयोग रहा हैै.‘‘ तिमाही के दौरान खनित धातु का उत्पादन 235,000 टन हुआ है जो पिछली तिमाही की तुलना में 7 प्रतिशत अधिक है जो उच्च अयस्क उत्पादन और बेहतर समग्र ग्रेड के परिणामस्वरूप हुआ.

  हिमाचल के 18 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि, सामने आए दो नए मामले

तीसरी तिमाही में एकीकृत धातु का उत्पादन 219,000 टन हुआ है जो पिछली तिमाही की तुलना में 4 प्रतिषत अधिक है. जस्ता का उत्पादन 178,000 टन हुआ है जो पिछली तिमाही की तुलना में 7 प्रतिशत अधिक है जबकि तिमाही के दौरान सीसा धातु का उत्पादन 41000 टन हुआ है. तिमाही के दौरान एकीकृत जस्ता के उत्पादन में उच्च खनित धातु उपलब्धता के अनुरूप वृद्धि हुई है. तिमाही के दौरान एकीकृत चांदी का उत्पादन 149 मैट्रीक टन हुआ है जो 11 प्रतिशत अधिक है जो कि सिन्देसर खुर्द खदान में उच्चतर चांदी की ग्रेड होने के कारण संभव हुआ है.

  बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा : नीतीश कुमार

कंपनी ने तीसरी तिमाही के दौरान 4,672 करोड़ रुपये का राजस्व अर्जित किया है तथा तिमाही के दौरान 2,288 करोड़ रुपये का ईबीआईटीडीए रहा है जो पिछली तिमाही की तुलना में 8 प्रतिषत अधिक है. कंपनी ने तीसरी तिमाही के दौरान 1,620 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया है. वर्तमान में चल रही खनन विस्तार का कार्य अंतिम चरण में है साथ ही 1.2 मिलियन मैट्रीक टन की वार्षिक क्षमता प्राप्त करने की ओर अग्रसर है.

  सोलापुर भाजपा सांसद की सदस्यता खतरे में, जांच पैनल ने जाति प्रमाण पत्र को किया अमान्य

रामपुरा-आगुचा में भूमिगत खदान में शाफ्ट को कमीशन किया गया है और शाफ्ट से अयस्क की ढुलाई का कार्य फरवरी 2020 में प्रारंभ होने की संभावना है. इससे रामपुरा-आगुचा भूमिगत खदान में 4.5 मिलियन टन उत्पादन प्राप्त हो सकेगा. जावर में, दो बैकफिल प्लांट चालू है तथा फरवरी 2020 में बैकफिल की शुरूआत होने की संभावना है. चंदरिया में फ्यूमर प्रोजेक्ट का कार्य प्रगति पर है और फरवरी 2020 तक धातु का उत्पादन होने की संभावना है.’

Check Also

गैगरेप, ब्लैकमेल से परेशान होकर खूद को जिंदा जलाने वाली 14 साल की किशोरी की मौत

बैतूल घटना के दोषियो को बख्शा नही जायेगा – गृहमंत्री भोपाल/बैतूल. मध्यप्रदेश के बैतूल जिले …