कोरोना वैक्सीन के मानव परीक्षण को मंजूरी कोरोना के अंत की शुरुआत – स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली (New Delhi). भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि भारत में बन रही कोरोना वैक्सीन कोवाक्सिन और ZyCov-D के मानव परीक्षण को मंजूरी मिलना कोरोनावायरस वैश्व‍िक महामारी (Epidemic) के अंत की शुरुआत है. मंत्रालय द्वारा लिखी चिट्ठी में बताया गया, ‘वर्तमान में दुनिया में 100 से अधिक वैक्सीन पर काम चल रहा है, जिनमें से 11 को मानव परीक्षणों की इजाजत मिली है.’

  मुंबई के चेंबूर इलाके में इमारत गिरी, एक की मौत, चार घायल

मंत्रालय द्वारा जारी पत्र में कहा गया है कि ‘ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया, सीडीएससीओ द्वारा वैक्सीन के लिए मानव परीक्षण की इजाजत इस जानलेवा वायरस के अंत की शुरुआत है.’ मंत्रालय ने कहा कि ‘भारत की छह कंपनियां करोना की वैक्सीन के लिए काम कर रही हैं. दुनियाभर में 140 दावेदारों में से 11 जिनमें COVAXIN और ZyCov-D भी शामिल हैं, को ह्यूमन ट्रायल्स की मंजूरी मिली है.

  सुशांत केस: CBI का सुप्रीम कोर्ट में जवाब, हमारी और ईडी जांच चलने दें

मंत्रालय ने यह भी कहा कि दो प्रमुख दावेदारों- AZD1222 (ब्रिटिश फर्म एस्ट्राजेनेका) और MRNA-1273 (US-based Moderna) के निर्माताओं ने भी भारतीय कंपनियों के साथ उत्पादन समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं. उनके टीके सुरक्षित और प्रभावी साबित होने चाहिए. दोनों को द्वितीय चरण, तृतीय परीक्षणों के लिए इजाजत मिली हुई है.

  आंख दिखाने वालों को उन्हीं की भाषा में जवाब

आमतौर पर दवा परीक्षण के पहले दो चरण सुरक्षा के लिए होते हैं, जबकि तीसरा दवा की प्रभावकारिता का परीक्षण करता है. हर चरण को पूरा होने में कई महीने या साल भी लग सकते हैं.

Check Also

राष्ट्र के लिए जिएंगे, राष्ट्र के लिए मरेंगे

स्वतंत्रता दिवस पर मुख्यमंत्री ने झंडावंदन कर सलामी ली भोपाल . मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान …