आईआईटी दिल्ली एक ब्रांड बन गया है- वेंकैया नायडू


नई दिल्ली (New Delhi) . उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने देश के शीर्ष उच्च शिक्षण संस्थानों में शुमार आईआईटी दिल्ली के योगदान को रेखांकित करते हुए शोध एवं अनुसंधान क्षेत्र को अधिक बढ़ावा देने के लिए उद्योग जगत से सहयोग करने का आह्वान किया है. नायडू ने यहां आईआईटी, दिल्ली की हीरक जयंती समारोह का वीडियो कांफ्रेंस के जरिए उद्घाटन किया. उन्होंने कहा कि आईआईटी दिल्ली ने पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाई है और प्रसिद्ध कई वैज्ञानिक अनुसंधानकर्ता और शिक्षक भी पैदा किए हैं. इसके अलावा कई पद्म पुरस्कार विजेता और फेलो भी यहां से निकले हैं.

  घर-घर जाकर लोगों को टीका लगाना संभव नहीं

आईआईटी दिल्ली नवाचार और उद्यमशीलता का लीडर बंद कर उभरा है. नायडू ने यह भी कहा कि आईआईटी दिल्ली ने कोरोना संकट के दौरान सबसे सस्ता जांच की वेंटिलेटर पीपी सैनिटाइजर (Sanitizer) आदि बनाकर उसने विशेष योगदान दिया है उपराष्ट्रपति ने कहा कि आज देश में शोध अनुसंधान तथा नवाचार की सबसे अधिक जरूरत है क्योंकि शैक्षिक संस्थानों का दायित्व बनता है कि वह समाज को कुछ दें और लोगों की समस्याओं का हल निकाले तथा उनका जीवन खुशहाल बनाएं. इसके लिए जरूरी है कि हमारे देश के उद्योग जगत आगे आए और शोध अनुसंधान क्षेत्र में काम करें और धन मुहैया कराएं. नायडू ने फिक्की सीआईआई और एसोचैम से भी अनुरोध किया कि वह इस कार्य में हाथ बढ़ाएं और एकेडमिक जगत से साझेदारी करें.

  रेलवे के 1952 कर्मचारी कोरोना से गंवा चुके जान

इससे पहले केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि आईआईटी दिल्ली देश के ही शीर्ष शैक्षणिक संस्थानों की रैंकिंग में नहीं बल्कि वह एक ब्रांड भी बन गया है. इतना ही नहीं आईटी दिल आईटी अब तक तीन करोड़ लोगों को रोजगार भी दिया है और 19000000 अमेरिकी डॉलर (Dollar) का निवेश भी किया है. यहां 54 प्रतिशत पीएचडी और स्नातकोत्तर छात्र (student) हैं तथा कोविड-19 (Covid-19) करीब 40 लाख बीपी किट की आपूर्ति की है. कोरोना की सबसे सस्ती जांच किट भी बनाई है वेंटीलेटर भी बनाए हैं. समारोह के आरम्भ में निदेशक रामगोपाल राव ने आई आई टी की विकास यात्रा का विस्तृत विवरण दिया. इस मौके पर आई आई टी की हीरक जयंती के लोगो का विमोचन किया गया और स्ट्रेटजी रिपोर्ट का लोकार्पण भी हुआ.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें