दिल्‍ली के भजनपुरा में बुराड़ी पार्ट-2, एक ही परिवार के 5 लोगों के शव सडे़ हुए मिले

पुलिस ने बताया कि कोई सूइसाइड नोट नहीं मिला

नई दिल्ली. बुधवार को दिल्ली के भजनपुरा इलाके में एक ही घर के 5 लोगों के शव मिलने से हड़कंप मचा गया. इस घटना ने लोगों के जेहन में जुलाई 2018 में हुए बुराड़ी कांड को याद दिला दिया है. वहीं बुराड़ी कांड में एक ही घर में परिवार के 11 लोगों के शव मिले थे. भजनपुरा मामले में फिलहाल मौत की कोई वजह सामने नहीं आई है. वहीं बुराड़ी वाले मामले में कुछ समय बाद ये जानकारी सामने आई थी कि यह परिवार एक तांत्रिक के संपर्क में था और तंत्र-मंत्र के चक्कर में था. सवाल यह है कि क्या भजनपुरा का परिवार भी कहीं किसी तांत्रिक के चक्कर में तो नहीं था? शुरुआत में तो ऐसा लग रहा है जैसे कि भजनपुरा में बुराड़ी पार्ट-2 दोहराया गया है.

  कोरोना संक्रमण के चलते लगाए गए प्रतिबंधों में ढील से चीन में शुरु हुईं विनिर्माण गतविधियां

पुलिस के मुताबिक, भजनपुरा के गली नं-11 में एक ही परिवार के 5 लोगों के शव मिले जो कई दिनों से घर में पड़े थे. मरने वालों में पति-पत्नी और 3 बच्चे शामिल हैं. परिवार के मुखिया शंभुनाथ (43 वर्षीय) और उनकी पत्नी सुनीता (38 वर्षीय) के अलावा उनके तीनों बच्चों के शव घर में मिले हैं. वह बिहार के सुपौल जिले के रहने वाले थे. पुलिस ने बताया कि शंभुनाथ भजनपुरा में ही जूस बेचने का काम करते थे लेकिन पिछले करीब 1 साल से उन्होंने बैटरी रिक्शा चलाने का काम शुरू कर दिया था. उनके परिवार में भी किसी तरह की कोई समस्या नहीं थी और ना ही आर्थिक हालात खराब थे.

  तेलंगाना में बांटे जा रहे हैं फ्री सैनिटाइजर

पुलिस के अनुसार, स्कूल से पता करने पर मालूम हुआ कि बेटी कोमल आखिरी बार 3 फरवरी को स्कूल गई थी. घर के भीतर खून बिखरा हुआ था. मेन गेट से ताला लगा हुआ था, पीछे का दरवाजा भी था. पुलिस को सुबह 11.30 बजे पड़ोसियों ने फोन किया था. उनकी शिकायत थी कि उस घर में से कुछ बदबू आ रही है. फिर पुलिस ने आकर दरवाजा तोड़ा. दरवाजा खुला तो पुलिस और वहां मौजूद लोगों के होश उड़ गए. वहां एक नहीं पूरे पांच शव थे. मिली जानकारी के मुताबिक, शव सड़ चुके थे. फिलहाल उन्हें पोस्ट मार्टम के लिए भेज दिया गया है. पुलिस को घर से फिलहाल कोई सूइसाइड नोट नहीं मिला है.

  अमेरिकी सांसद का आरोप चीन को बचाने में लगा हुआ WHO

Check Also

सीएम योगी को तोड़नी पड़ी परम्‍परा, पहली बार रामनवमी पर गोरखनाथ मंदिर में नहीं

गोरखनाथ . एक बार फिर गोरक्षपीठाधीश्‍वर और सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने लोककल्‍याण के लिए परम्‍परा …