Tuesday , 15 October 2019
Breaking News

माधुरी में बाल श्रम करते तीन बाल श्रमिक रेस्क्यू, ओपन शेल्टर होम भेजा

उदयपुर. मानव तस्करी विरोधी यूनिट उदयपुर ने माधुरी इंडस्ट्रियल एरिया में एक रेस्टोरेंट पर बाल श्रम करते 3 बच्चों को रेस्क्यू किया है तथा नियोक्ता के विरुद्ध बाल श्रम कराने के मामले में प्रकरण दर्ज किया गया है बालकों को विशेष देखभाल एवं संरक्षण वाला मानकर बाल कल्याण समिति ने इन्हें आसरा विकास संस्थान के शेल्टर होम में आवेशित कराया है.

पुलिस के मुताबिक आसरा विकास संस्थान के संस्थापक भोजराज सिंह पदमपुरा को इंडस्ट्री एरिया में स्थित पी आई इंडस्ट्री के सामने नमो नारायण रेस्टोरेंट पर बाल श्रमिकों के कार्य करने की सूचना मिली सूचना का प्रमाणीकरण कर मानव तस्करी विरोधी यूनिट प्रभारी पुलिस निरीक्षक श्याम सिंह पुलिस थाना प्रताप नगर यूनिट के कॉन्स्टेबल भानु प्रताप सिंह मैं लैपटॉप यूपीएस फोटोग्राफी के लिए आवश्यक कैमरा आदि संसाधन लेकर सूचित रेस्टोरेंट पहुंचे जहां नमो नारायण रेस्टोरेंट पर 13 व 14 साल के तीन बाल श्रमिक बच्चे कार्य करते पाए गए. इस दौरान रेस्टोरेंट पर मालिक का पता पूछने पर सेंट्रल एरिया निवासी नरेंद्र खंडेलवाल पिता शोभा लाल खंडेलवाल मौके पर मिला जिसने स्वयं का रेस्टोरेंट होना बताया लेकिन रेस्टोरेंट ओल्ड वाडिया पुलिस थाना गिंगला के घर का तालाब निवासी रामा राम पिता नोजा राम मीणा द्वारा चलाना संभालना बताया.

  अनियंत्रित ट्रोला घर के आंगन में पलटा भैस मरी, घर के सदस्य बाल-बाल बचा

पुलिस ने दामाराम से पूछताछ की तो उसने रेस्टोरेंट्स एम चलाना तथा बाल श्रम के लिए इन बच्चों को सलूंबर व अन्य गांव से स्वयं लाना बताया यह बच्चे पिछले 6 माह से बाल श्रम कर रहे हैं. बच्चों ने बताया कि उन्हें में दाने के रूप में मासिक ₹6000 और सुबह 6:00 से शाम 8:00 बजे तक काम कराया जाता पुलिस ने दमाराम के विरुद्ध किशोर न्याय अधिनियम की धारा 75 एवं 79  के तहत प्रकरण दर्ज कर बच्चों को रेस्क्यू किया पुलिस ने रेस्टोरेंट्स संचालक को हिरासत में ले पूछताछ शुरू की है मामले की जांच प्रताप नगर थाने के सब इंस्पेक्टर पूनमचंद कर रहे हैं.

  देशी कट्टा व राइफल के साथ 2 आरोपी गिरफ्तार

सीडब्ल्यूसी ने भेजा ओपन शेल्टर होम में

मानव तस्करी यूनिट द्वारा बाल श्रम में संलिप्त रेस्क्यू किए गए तीनों बालकों को बाल कल्याण समिति न्याय पीठ सदस्य हरीश पालीवाल के समक्ष प्रस्तुत किया जिन्हें जेजे एक्ट की धारा दो सह पठित 14 के तहत बाल श्रमिक मानकर इन्हें विशेष देखभाल एवं संरक्षण वाला बालक घोषित किया और अविलंब तितली स्थित आसरा विकास संस्थान के ओपन शेल्टर होम में प्रवेश कराया.

  करंट से विवाहिता की मौत, पीहर पक्ष का हंगामा

मेडिकल आयु परीक्षण के दिए आदेश

समिति के न्याय पीठ सदस्य हरीश पालीवाल ने तीनों बालकों के आयु व स्वास्थ्य परीक्षण बाबत आरएनटी मेडिकल कॉलेज प्रभारी को इनका परीक्षण कर उसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए ताकि नियोक्ता के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जा सके.

Click & Download Udaipur Kiran App to read Latest Hindi News