आयकर विभाग का 1,474 जोखिम वाले निर्यातकों के विरुद्ध सख्त रुख, कड़ी कार्रवाई की योजना


नई दिल्ली (New Delhi). गलत पता-ठिकाना वाली निर्यातक कंपनियों की अब खैर नहीं है. आयकर विभाग उन 1,474 ‘जोखिम वाले निर्यातकों’ के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की योजना बना रहा है जिनका पता-ठिकाना सही नहीं है, लेकिन उन्होंने माल एवं सेवाकर (जीएसटी) के तहत 2,029 करोड़ रुपये के रिफंड का दावा किया है. सूत्रों ने यह जानकारी दी है. सूत्रों ने कहा है कि ऐसे मामलों में जहां निर्यातक अथवा आपूर्तिकर्ता की वैधता की जांच के बाद की रिपोर्ट सही नहीं है, उन मामलों में एकीकृत जीएसटी (आईजीएसटी) रिफंड को निलंबित रखा गया है.

सूत्रों ने बताया कि अब तक 1.37 लाख करोड़ रुपय से अधिक का आईजीएसटी रिफंड जारी किया जा चुका है और केवल 2,026 करोड़ रुपये का रिफंड ही लंबित रह गया है. इस पर कानून के मुताबिक आगे काम किया जा रहा है. वास्तविक निर्यातकों की रिफंड संबंधी शिकायतों के निपटारे के लिये 24 घंटे सातों दिन काम करने वाली एक मोबाइल सहायता सुविधा उपलब्ध कराई गई है. हालांकि, उन्होंने कहा कि सीमा शुल्क अधिकारियों को कोविड-19 (Covid-19) के इन मुश्किल दिनों में केवल ईमानदार निर्यातकों को ही रिफंड जारी करने को लेकर संवेदनशील बनाया गया है.

  प्राकृतिक चिकित्सा क्षेत्र में सेवा के साथ बनायें कॅरियर

सूत्रों का कहना है कि सीबीआईसी प्रत्येक निर्यातक की दो- स्तरों पर वैधता की जांच करता है. इसमें जरूरत के मुताबिक मुश्किल से तीन से चार दस्तावेजों का सत्यापन किया जाता है. इस प्रक्रिया में सीबीआईसी के जोखिम प्रबंधन महानिदेशालय के बाद क्षेत्रीय स्तर पर काम करने वाले सीजीएसटी अधिकारियों के स्तर पर की गई वैघता की जांच में 1,474 निर्यातकों को जोखिम वाला निर्यातक पाया गया. इनमें सात निर्यातक तो स्टार निर्यातक हैं. इन निर्यातकों ने कुल 2,029 करोड़ रुपये के रिफंड का दावा किया है. लेकिन ये निर्यातक उनके बताये गये कारोबार वाले पते पर नहीं मिले. इसलिये इनका रिफंड खारिज कर दिया गया है.

  2021 में भारत को मिल सकती है कोरोना वैक्सीन :गगनदीप कांग

सूत्रों के मुताबिक 1,474 जोखिम वाले निर्यातकों में जिनका अता पता नहीं मिल पाया है, इनमें 1,125 निर्यातक अकेले दिल्ली से हैं. इसके अलावा दिये गये पते पर नहीं मिलने वाले निर्यातकों में 215 सूरत (Surat) के हैं, 28 ठाणे से, 15 फरीदाबाद और 11 कोलकाता (Kolkata) से हैं. धोखाधड़ी पूर्ण तरीके से रिफंड का दावा करने वाले ये निर्यातक मुख्यतौर से रेडीमेड कपड़ों, वॉलपेपर, वॉल कवरिंग, चमड़े के कपड़े, धुम्रपान पाइप, मोबाइल फोन, सिगरेट होल्डर, जूते- चप्पल, प्लास्टिक, फ्लोर कवरिंग, बॉल बीयरिंग्स और रोलर बीयरिंग्स का निर्यात करने वाले हैं.

  लिव-इन पार्टनर की नाबालिग बेटी से युवक ने किया दुष्कर्म

Check Also

पूर्व क्रिकेटर डीन जोंस का मुंबई में निधन

भारत के खिलाफ खेली थी 1986 में 210 रन की पारी मुंबई . डीन जोन्स …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *