Tuesday , 19 January 2021

डब्ल्यूटीओ में भारत की 7वीं व्यापार नीति की समीक्षा


नई दिल्ली (New Delhi) . विश्व स्वास्थ्य संगठन, जेनेवा में भारत की 7वीं व्यापार नीति की समीक्षा हुई. 8 जनवरी, 2021 को हुई इस समीक्षा में व्पापार नीति की दूसरी और अंतिम चरण की बैठक हुई. डब्ल्यूटीओ के नियमों को उसके सदस्य देश पालन कर रहे या नहीं और किसी नीति में सुधार की जरूरत है, उसके लिए व्यापार नीति की समीक्षा, संगठन की प्रक्रिया है. इसके जरिए सदस्य देशों के सुझाव आदि प्राप्त करने का मौका डब्ल्यूटीओ को मिलता है.

व्यापार नीति की समीक्षा के लिए भारत के आधिकारिक दल की अध्यक्षता वाणिज्य सचिव अनूप वधावन ने की. डब्ल्यूटीओ के सदस्यों को अपने समापन वक्तव्य के संबोधन में वाणिज्य सचिव ने सदस्यों द्वारा व्यापार नीति की समीक्षा पर 6 जनवरी 2021 को हुई बैठक में उठाए गए मुद्दों पर जवाब दिया. इस मौके पर डब्ल्यूटीओ के सदस्यों ने बहुस्तरीय व्यापार प्रणाली के तहत विश्व व्यापार में भारत की भूमिका और उसके महत्वपूर्ण योगदान की सराहना की. व्यापार नीति की समीक्षा संबंधी बैठक में सदस्य देशों द्वारा करीब 1050 सवाल पूछे गए, जबकि 53 मौकों पर उनके द्वारा हस्तक्षेप भी किया गया. वाणिज्य सचिव ने इस मौके पर भारत सरकार द्वारा लगातार उठाए जा रहे सुधारों और उससे संबंधित कदमों का भी उल्लेख किया.

  अफगान तालिबान मुखिया ने सदस्यों को फिजूल खर्ची बचाने के लिए कम शादी करने का दिया आदेश

उन्होंने कहा कि भारत को एक आकर्षक निवेश वाले देश के रूप में स्थापित करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं. जिससे कि वह दुनिया में निवेश के लिए प्रमुख देशों का साझीदार बन सके. उन्होंने यह भी जानकारी दी कि भारत दुनिया की अर्थव्यवस्था और व्यापार में ज्यादा से ज्यादा भागीदारी बढ़ाने और उससे सीधे जुड़ने के लिए विभिन्न अवसर खोल रहा है. वाणिज्य सचिव ने कहा कि महामारी (Epidemic) ने एक बार फिर से भोजन और लोगों के जीवन के लिए खाद्य सुरक्षा के महत्व को सामने लाया है. ऐसे में मेरा सदस्यों से आग्रह है कि वह खाद्य सुरक्षा के स्थायी समाधान के लिए पब्लिक स्टॉक होल्डिंग का रास्ते को अपनाए.

  फ्रैंकफर्ट एयरपोर्ट पर स्‍लोवेनियाई नागरिक ने 'अल्‍लाह हू अकबर' चिल्‍लाकर दी मारने की धमकी, गिरफ्तार

उन्होंने यह भी बताया कि भारत में एक स्थायी नीति का माहौल है. साथ ही वहां व्यापार के लिए विभिन्न दरें, डब्ल्यूटीओ के मानकों की तुलना से भी कम हैं. इसके अलावा भारत में व्यापार की प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी है. साथ ही वह डब्ल्यूटीओ के प्रावधानों के अनुसार है. साथ ही इन कदमों से भारत के आयात पर भी न के बराबर असर पड़ता है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *