Thursday , 28 January 2021

मुरैना के कलेक्टर और एसपी को हटाने के निर्देश

जहरीली शराब पीने से हुई मौतों के मामले में एसडीओपी निलंबित

भोपाल (Bhopal) . मुरैना में जहरीली शराब पीने के कारण एक दर्जन लोगों की मौत का मामला राज्‍य सरकार ने गंभीरता से लिया है. मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने मुरैना के कलेक्टर (Collector) और एसपी को हटाने के साथ ही संबंधित क्षेत्र के एसडीओपी को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं. आबकारी अधिकारी को पूर्व में ही निलम्बित किया जा चुका है.

chauhan-moraina

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने बुधवार (Wednesday) को अपने निवास पर एक उच्च-स्तरीय बैठक बुलाई. उन्‍होंने कहा कि घटना अमानवीय और तकलीफ पहुँचाने वाली है. प्रदेश में मिलावट के विरुद्ध अभियान संचालित है, फिर भी यह दु:खद घटना हुई. उन्‍होंने कहा कि इस पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंपी जाए.

  आधार कार्ड से मोबाइल नंबर लिंक करने के लिए किसी दस्तावेज की जरुरत नहीं

सीएम ने कहा कि इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो. अन्य जिले भी सजग रहें. ऐसे मामलों में कलेक्टर, एस.पी. जिम्मेदार माने जाएंगे. दोषी अधिकारियों के विरुद्ध एक्शन भी लिया जाएगा.

उन्‍होंने कहा कि ऐसी घटना पर मैं मूकदर्शक नहीं रह सकता. ड्रग माफिया के विरुद्ध सख्त अभियान जारी रहे. पूरे प्रदेश में अवैध शराब के खिलाफ अभियान चले. अवैध शराब बिक्री पर पूरा नियंत्रण हो. ऐसा व्यापार करने वालों को ध्वस्त किया जाए.

  टीकाकरण में दुनिया को पछाड़ चुका है भारत

बैठक में गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, वाणिज्यिक कर एवं वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, पुलिस (Police) महानिदेशक विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री (Chief Minister) मनीष रस्तोगी, प्रमुख सचिव वाणिज्यिक कर दीपाली रस्तोगी मौजूद थे.

डिस्टलरी की जाँच के निर्देश

मुख्यमंत्री (Chief Minister) चौहान ने पुलिस (Police) महानिदेशक से घटना की विस्तृत जानकारी प्राप्त की. मुरैना जिले में हुई घटना में उपयोग में लाई गई मिलावटी शराब के निर्माण केन्द्र और दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध कार्यवाही के साथ ही संबंधित डिस्टलरी की जाँच के निर्देश भी दिए गए. मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने आबकारी और पुलिस (Police) अमले की पद-स्थापना में निश्चित समयावधि के बाद परिवर्तन के निर्देश भी दिए. उन्होंने कहा कि डिस्टलरी के लिए पदस्थ आबकारी अमले और ओआईसी को ओवर टाइम दिए जाने की व्यवस्था में भी परिवर्तन किया जाए.

  नेताजी पर ‘नेतागिरी’ अब ‘घट-घट’ में ‘राम’ नहीं..... राजनीति.....?

News 2021

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *