यूपी में मॉस्क ना पहनने वाले 5300 लोगों का चालान


लखनऊ (Lucknow). उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में मॉस्क ना पहनने वाले लगभग 5300 लोगों का चालान किया गया जबकि दोपहिया वाहनों एक से अधिक बैठने के मामलों में 18,200 से अधिक लोगों पर कार्रवाई की गई. अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने शनिवार (Saturday) को बताया कि फेस मॉस्क नहीं पहनने के लिए 5298 लोगों का चालान किया गया है. सबसे अधिक 1461 चालान राजधानी लखनऊ (Lucknow) में जबकि 1306 चालान वाराणसी में हुए.

उल्लेखनीय है कि मॉस्क नहीं पहनने पर पहली बार सौ रूपये, दूसरी बार सौ रूपये और तीसरी बार तथा उसके बाद पांच सौ रूपये के जुर्माने का प्रावधान है. अवस्थी ने कहा कि मॉस्क की कीमत पांच से दस रूपये के बीच है, ऐसे में जुर्माना भरने की बजाय लोग मॉस्क पहनें. अवस्थी ने बताया कि लॉकडाउन (Lockdown) का उल्लंघन करने के लिए 38,472 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई और केवल एक दिन शुक्रवार (Friday) को 24 लाख 60 हजार रूपये का जुर्माना वसूला गया. उन्होंने कहा कि दोपहिया वाहन पर एक ही व्यक्ति बैठ सकता है. अगर महिला है तो वह पीछे बैठ सकती है.

  गर्लफ्रेंड को परेशान करने वाले दोस्त का गला दबाकर यमुना में फेंका

दोपहिया पर एक से अधिक लोगों के सफर करने के मामले में 18 हजार 244 लोगों पर कार्रवाई गई और 14 लाख 90 हजार रूपये जुर्माना वसूला गया. अवस्थी ने कहा कि पुलिस (Police) महानिदेशक ने रात की गश्त बढायी है और गश्त के माध्यम से प्रयास किया गया है कि कहीं कोई अनहोनी ना हो. उन्होंने बताया कि प्रदेश में कुल 863 हॉटस्पॉट हैं, जो 485 थानाक्षेत्रों में हैं. हॉटस्पाट क्षेत्रों में सात लाख 80 हजार मकान हैं. उन्होंने कहा कि कंटेनमेंट जोन के बाहर काफी छूट दी गई है. दुकानदारों से अपील है कि वे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन सुनिश्चित करें.

  लॉकडाउन के दौरान मजदूरी के भुगतान से छूट मिलने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र से मांगा जबाव

अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में रोजाना डेढ से दो लाख श्रमिक आ रहे हैं, ऐसे में व्यापक पैमाने पर उनकी जांच की आवश्यकता है. गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कालेज में शनिवार (Saturday) से लेवल-3 की नयी लैब बनाने का कार्य शुरू हो गया है. उन्होंने कहा कि ईद के त्यौहार के मददेनजर मुख्यमंत्री (Chief Minister) योगी आदित्यनाथ ने अनुरोध किया है कि सभी धर्मगुरूओं से संवाद बनाया जाए. लॉकडाउन (Lockdown) में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए लोग घरों पर ही नमाज पढें. धर्मगुरूओं ने भी यही अपील की है. ऐसी ही अपील गृह विभाग और पुलिस (Police) महानिदेशक भी कर रहे हैं.

  प्रवासियों को लाने दिल्ली गई रोडवेज बसें 3 दिन खड़ी रहीं, आखिर में खाली लौटीं

Check Also

नीम के तेल का छिड़काव से पाया जा सकता है टिड्डियों पर नियंत्रण

महाराष्ट्र (Maharashtra) कृषि विवि ने प्रकोप से निपटने के तरीके सुझाए औरंगाबाद. मध्य प्रदेश, राजस्थान, …