झाबुआ पुलिस बनी असहायो की सहायक, फ़िर हुए संवेदनशीलता के दीदार

झाबुआ बदलते दौर में मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) पुलिस (Police) की छवि बदली है. यह बदलाव जिले में भी देखने मे आ रहा है किंतु इस बदलाव में संवेदनशीलता का भी समावेश हो जाने से यह आम व्यक्ति के मन को भी छूने लगा है. ऐसी संवेदनशीलता के दर्शन समय समय पर होते है, ताज़ा मामला एक पुलिस (Police)कर्मी द्वारा एक वृद्धा को सुरक्षित रूप से रोड़ क्रास कराने को लेकर है. वाहनों के बढ़ते आवागमन के इस दौर में असहाय बुजुर्ग का रोड़ क्रास किया जाना जोखिम उठाने जैसा है, ऐसे में आँखे तलाशती है, ऐसे शख्स को जो उसे उस पार सुरक्षित रूप से पहुँचा दे.

  बस किराया बढाने का कहीं स्वागत तो कहीं विरोध

ताजा मामले में जो जानकारी मिली उस अनुसार थाना यातायात में कार्यरत आरक्षक संजय द्वारा कल यातायात व्यवस्था ड्यूटी के दौरान होमगार्ड कार्यालय के पास एक बुजुर्ग महिला जो रोड क्रास करने हेतु खड़ी थी, तभी आरक्षक संजय की नज़र उस बुजुर्ग महिला पर पड़ी आरक्षक ने जरा भी देर न करते हुए इस कार्य को भी अपनी ड्यूटी समझ कर एवम महिला को सुरक्षित रूप से रोड़ क्रास करवाकर मानवता का परिचय दिया. पुलिस (Police) का यह मानवता भरा काम देखने के बाद लोगों में पुलिस (Police) के प्रति प्रशंसा का भाव दिखाई दिया. अतिरिक्त पुलिस (Police) अधीक्षक आनंदसिंह वास्कले ने बताया कि आरक्षक संजय के इस नेक काम की सराहना करते हुए जिला पुलिस (Police) अधीक्षक झाबुआ आशुतोष गुप्ता द्वारा आरक्षक को पुरूस्कृत करने की घोषणा की गई.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *