कमल नाथ ने फूंका उप चुनाव का बिगुल

उज्जैन. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ ने प्रदेश में होने जा रहे उप चुनाव का बिगुल फूंक दिया है. उज्जैन में महाकाल के दर्शन के बाद धार के बदनावर में उन्होंने पार्टी कार्यकर्ता सम्मेलन में कहा कि मैं ना मामा हूं, न टाइगर हूं, न ही महाराज हूं. मैं कमल नाथ हूं. प्रदेश की जनता तय करेगी कि कौन टाइगर है और कौन चूहा-बिल्ली.

kamal-nath-ujjain

विधानसभा की 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले कमल नाथ महाकाल का आशीर्वाद लेने उज्जैन आए. COVID-19 की गाइडलाइन के मुताबिक गर्भगृह के बाहर से ही महाकाल के दर्शन किए और धार के बदनावर रवाना हो गए. वहां विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है.

  फ्री में कोरोना टेस्ट वाले मैसेज-मेल से बचने की सलाह, नहीं तो बैंक अकाउंट हो जाएगा खाली

उन्‍होंने कहा कि कौन टाइगर है और कौन बिल्ली और कौन चूहा है, जनता सब जानती है. वो कभी टाइगर बन जाते हैं. कभी यह बन जाते हैं कभी वह बन जाते हैं. इसका मतलब असली बात जनता तक नहीं जा पा रही. टाइगर कहकर गुमराह किया जा रहा है लेकिन जनता समझदार है. कौन टाइगर है, कौन हाथी है, कौन बिल्ली है, कौन चूहा है, ये सब जनता के सामने है.

पूर्व सीएम कमल नाथ ने कहा मध्य प्रदेश की जनता सीधी-सादी और समझदार है. वह जानती है कांग्रेस सरकार गिराने के लिए मध्य प्रदेश में क्या-क्या गद्दारी हुई है और क्या सौदा हुआ. ये सब जनता के सामने है. जनता जानती है कि हमारी सरकार में किस पटरी पर मध्य प्रदेश आगे चल रहा था किस तरह से मध्य प्रदेश को नई दिशा मिली थी. विकास को गति मिली थी.

  कोरोना संकट के बीच ई-कामर्स कंपनी अमेजान और फ्लिपकार्ट ला रही सेल

देखें महाकाल मंदिर में कमल नाथ

कमल नाथ ने भरोसा जताया कि प्रदेश में फिर जनता हमारा साथ देगी और कांग्रेस की सरकार बनेगी. कमल नाथ ने कहा-15 साल की बीजेपी और शिवराज सरकार के दौरान किए गए भ्रष्टाचार का पर्दाफाश मेरी सरकार ने किया था. वो हम पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हैं. बीजेपी मेरे 15 महीने के कार्यकाल की जांच कराना चाहे तो करा ले, मैं स्वागत करता हूं.

  अगस्त में भी घरेलू गैस पर सरकार सब्सिडी नहीं मिलने वाली, वजह जान लें

kn-ujjain

विधायक ने पुलिस को धमकाया

इधर, कमलनाथ के महाकाल मंदिर में दर्शन के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं का हुजूम मंदिर में उमड़ पड़ा. वो मंदिर में प्रवेश करना चाहते थे. लेकिन सुरक्षा गार्ड्स ने कोरोना के कारण एहतियात के तौर पर गेट बंद कर दिया था.

कांग्रेस के घाटिया विधायक रामलाल मालवीय ने पुलिसकर्मियों से अभद्रता भी और अपशब्द कहते हुए सरकार आने पर देख लेने की धमकी तक दे डाली. वो नहीं मानें और गेट खोलने पर अड़े रहे. गेट खुलते ही पूरी भीड़ मंदिर में घुस गई.


Check Also

Gujarat Hospital Fire : अहमदाबाद के कोविड अस्पताल में आग, 8 कोरोना मरीजों की मौत

गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) के नवरंगपुरा में गुरुवार (Thursday) तड़के एक कोविड डेडिकेटेड अस्पताल के …