अंतिम बोडो आतंकी समूह ने किया समर्पण, म्यांमार से वापस लौटा

नई दिल्ली . पूर्वोत्तर राज्य असम के अंतिम बो़डो आतंकी संगठन नेशनल डेमोक्रैटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड के सदस्यों ने म्यांमार बेस छोड़ भारत के सामने भारत-म्यांमार बॉर्डर पर शनिवार को आत्मसमर्पण कर दिया है. जिसके बाद इस संगठन को गुवाहटी ले जाया जा रहा है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक करीब 50 सशस्त्र काडरों ने चेयरमैन बी. सौरईग्वरा के नेतृत्व में हथियारों के साथ आत्मसमर्पण किया.

  छह वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म

दरअसल यह बोडोलैंड टेरिटोरियल कांउसिल के मुख्य प्रशासक हगरमा महिलरी की पहल और भारत-म्यांमार की संयुक्त कोशिशों से मुमकिन हो पाया है. यह संगठन पहले परेश बरूआ के उल्फा के साथ काम करता था. सौरईग्वरा और उसके परिवार को गांव तामू से लाया गया है. दूसरे ग्रुप ने अपने महासचिव बीआर फरेंगा के साथ लॉन्गवा गांव में आत्मसमर्पण किया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बोडो लिबरेशन टाइगर्स का नेतृत्व करने वाले महिलरी ने कहा कि बोडो समूहों को मुख्यधारा में लाने की जिम्मेदारी उन्होंने ली है और वह संविधान के शेड्यूल 6 के तहत बोडो ऑटोनॉमस काउंसिल एरिया से मिलिटेंट्स को बाहर करेंगे. उन्होंने केंद्र और राज्य सरकारों के सभी संगठनों को केंद्र की शांतिवार्ता के लिए भी अपील किया है.

  कोराना वायरस अब मध्‍यप्रदेश में भी चीन से आया मेडिकल छात्र, कोराना वायरस का संदिग्ध

Check Also

ट्रेन से कटकर बच्चे समेत महिला की मृत्यु

औरैया. जिले के दिवियापुर क्षेत्र में मंगलवार की सुबह दिल्ली-कोलकाता रेलमार्ग पर कहिंजरी व गपकापुर …