पूर्ववर्ती सरकार के कुप्रबंधन के कारण डिस्कॉम्स का घाटा बढ़ा


जयपुर. ऊर्जा मंत्री डॉ बी.डी. कल्ला ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार के कुप्रबंधन के कारण डिस्कॉम्स का घाटा एवं देनदारियां लगातार बढ़ती रहीं. पिछली सरकार जाते समय डिस्कॉम्स पर करीब 90 हजार करोड़़ का घाटा एवं 66 हजार करोड़ रुपये का कर्ज छोडक़र गई. वर्ष 2018-19 में वितरण निगमों को 9 हजार 393 करोड़ रुपये का वार्षिक घाटा रहा.

कल्ला ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार ने उदय योजना के तहत वितरण निगमों के वित्तीय सुधार एवं छीजत कम करने की दिशा में कोई गंभीर प्रयास नहीं किए. उदय योजना के तहत उन्हें छीजत को मार्च, 2019 तक घटाकर 15 प्रतिशत तक लाना था. वह कम होना तो दूर रहा उल्टे जो एटीएंडसी लॉस (एग्रीगेट टेक्निकल एण्ड कामर्शियल लॉसेस) हमारी सरकार के समय वर्ष 2012-13 में 20 प्रतिशत ही थे, वह बढक़र नवम्बर, 2018 में गत सरकार के समय 24.72 प्रतिशत हो गए. इसको अब हम कम करते हुए मार्च, 2019 में 21.87 प्रतिशत तक ले आए हैं. आने वाले दो साल में इन्हें 15 प्रतिशत तक लाने की हमारी योजना है.

  डॉक्टर का शव रेल ट्रैक के पास मिला

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार वितरण निगमों की वित्तीय स्थिति में सुधार के लिए इनकी कार्यकुशलता में बढोत्तरी एवं विद्युत छीजत 15 प्रतिशत लाने की दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रही है. विनियामक आयोग द्वारा विद्युत दरों में की गई वृद्धि में से 2469 करोड़ रुपये का भार राज्य सरकार वहन करेगी, इससे 20 लाख बीपीएल व 42 लाख छोटे घरेलू उपभोक्ताओं तथा 14 लाख किसानों की बिजली की दरों में कोई प्रभावी वृद्धि नहीं होगी. इस प्रकार राज्य के कुल 133 लाख उपभोक्ताओं में से 76 लाख उपभोक्ता जो कि कुल उपभोक्ताओं का 57 प्रतिशत है, पर इस बढ़ोतरी का कोई असर नहीं पड़ेगा.

  डॉनाल्ड ट्रंप ‘अमेरिका फर्स्ट’ को आगे रखकर करेंगे डील, MODI को रखनी होगी सावधानी

Check Also

चित्रकूट में 29 को मौजूद रहेंगे पीएम मोदी

नई दिल्ली. कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा प्रधानमंत्री किसान योजना के एक साल पूरा …