Thursday , 28 January 2021

मध्‍य प्रदेश भूकंप के खतरनाक जोन में नहीं

मुख्यमंत्री (Chief Minister) ने राज्य आपदा प्रबंधन की बैठक ली

भोपाल (Bhopal) . मुख्यमंत्री (Chief Minister) शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्य प्रदेश भूकंप के जोन 2 व 3 में आता है, जो खतरनाक श्रेणी नहीं है. जोन 4 एवं 5 खतरनाक श्रेणी में आते हैं जहां भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.5 से अधिक रहती है.

mp-quake

उन्‍होंने कहा कि पिछले दिनों सिवनी, बालाघाट, बड़वानी, अलीराजपुर, छिंदवाड़ा, मंडला आदि जिलों तथा उनके समीप भूकंप के झटके महसूस किए गए. इनमें रिक्टर स्केल पर सर्वाधिक तीव्रता 4.3, सिवनी में आए भूकंप की थी. सरकार द्वारा भूकंप उन्मुख सभी क्षेत्रों में राहत एवं बचाव की सारी व्यवस्थाएं की गई हैं. धैर्य रखें, घबराएं नहीं तथा सभी आवश्यक सावधानियां बरतें.

  आत्मनिर्भर बिहार के लिए सात निश्चय-2 के लिए बजट में होगा प्रावधान

मुख्यमंत्री (Chief Minister) मंत्रालय में राज्य आपदा प्रबंधन की बैठक ले रहे थे. बैठक में मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा तथा सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे. गत दिनों प्रदेश में आए भूकंप के संभावित कारणों की समीक्षा में बताया गया कि वाटर लैवल में परिवर्तन इस बार आए भूकंप का संभावित कारण है. इस बार सर्वाधिक 4.3 तीव्रता का भूकंप सिवनी में आया, जिसका एपीसेंटर सिवनी शहर के ठीक नीचे था.

गत दिनों प्रदेश में आए भूकंप

मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में 22 नवम्बर को सिवनी शहर में रिक्टर स्केल पर 4.3 तीव्रता का, कटंगी बालाघाट में 2.4 तीव्रता का, कुरई सिवनी में 1.8 तीव्रता का तथा बरघाट केवलारी में 2.7 तीव्रता का भूकंप आया. इसी प्रकार 07 नवंबर को बड़वानी एवं अलीराजपुर के समीप 4.2 तीव्रता का, सिवनी जिले के पास ही 27 अक्टूबर को 3.3 तीव्रता का भूकंप आया, जिसके झटके मंडला और बालाघाट में भी आए, 31 अक्टूबर को छिंदवाड़ा में 3.2 तीव्रता का तथा सिवनी जिले के पास 3.5 तीव्रता का भूकंप आया.

  मुख्यमंत्री ने पद्म सम्मान विजेताओं को दी बधाई

भूकंप के समय ये सावधानियां बरतें

जहां है वहीं रहें, संतुलित रहें. हड़बड़ी घातक हो सकती है.
यदि घर के अन्दर हैं, तो गिर सकने वाली भारी वस्तुओं से दूर रहें.
खिड़कियों से दूर रहें. मजबूत मेज के नीचे छुपें.
चेहरे व सिर को हाथों की सुरक्षा प्रदान करें व कम्पन रूकने तक सिर को हाथों की सुरक्षा में रखें.
अगर घर से बाहर हैं तो खुली जगह तलाशें. भवनों, पेड़ों, बिजली के खम्भों व तारों से दूर रहें.
अगर वाहन में हो तो रूकें और अन्दर ही रहें.
पुल, बिजली के तारों, भवनों, खाई और तीव्र ढाल वाली चट्टानों से दूर रहें.
बिजली के उपकरण व खाना पकाने की गैस बन्द कर दें.
टूटे सामान से पैर चोटिल हो सकते है, अत: जूते पहन कर रखें.
अगर काई ज्वलनशील पदार्थ फैल गया है, तो तुरन्त उसे साफ करें.
यदि आग लग गयी है और धुआं है, तो लेट कर बाहर निकलने का प्रयास करें. ऐसे में साफ हवा जमीन के नजदीक ही मिलेगी.

  दिल्ली बॉर्डर पर पुलिस ने किसानों पर दागी आंसू गैस

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *