महाराष्ट्र के गृहमंत्री कराएँगे राकेश मारिया के कसाब सम्बन्धी दावों की जांच


मुंबई. महाराष्ट्र के पूर्व कमिश्नर रहे और वर्तमान में महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार में गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मंगलवार को कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया को तलब किया जाएगा और आतंकी अजमल कसाब और 2008 में मुंबई आतंकी हमलों को लेकर किए गए दावे की जांच की जाएगी.

मारिया ने दावा किया था कि लश्कर-ए-तैयबा ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले को “हिंदू आतंकवाद” के रूप में पेश करने तथा पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद अजमल कसाब को बेंगलुरु के समीर चौधरी के रूप में मारे जाने की योजना बनाई थी. देशमुख ने कहा कि सरकार इस किताब से जुड़ी जानकारी जुटा रही है. उन्होंने कहा हम मारिया को बुलाकर उनसे बात करेंगे और अगर जरूरत पड़ी तो इस मामले की जांच की जाएगी.

  दवा नियामक ने सभी राज्यों से औद्योगिक ऑक्सीजन देने की मांगी मंजूरी

मारिया ने सोमवार को जारी अपने संस्मरण “लेट मी से इट नाउ” में 26/11 के मुंबई हमले में उनके द्वारा की गई जांच का जिक्र किया. उस हमले की योजना लश्कर ने बनाई थी और उसमें पाकिस्तान का हाथ भी होने का पता चला था. पुस्तक के अंशों के अनुसार, (पाकिस्तानी) आईएसआई और लश्कर जेल में ही कसाब को खत्म करने का प्रयास कर रहे थे क्योंकि वह हमले की कड़ी उन समूहों से जोड़ने वाले प्रमुख सबूत था और दाऊद इब्राहिम के गिरोह को उसे खत्म करने का जिम्मा सौंपा गया था.

  जामिया नगर में 4 संक्रमित, मस्जिद में नमाज पढ़ने गए थे 2 लोग

मुंबई आतंकी हमले को “हिंदू आतंकवाद” के रूप में पेश करने की लश्कर की योजना का ब्यौरा देते हुए मारिया ने लिखा, “यदि सब कुछ योजना के अनुसार होता, तो कसाब चौधरी के रूप में मर जाता और मीडिया हमले के लिए ‘हिंदू आतंकवादियों’ को दोषी ठहराती.” उन्होंने दावा किया कहा कि आतंकवादी संगठन ने आतंकवादियों को भारतीय पते के साथ फर्जी पहचान पत्र भी दिए थे.

  स्पेन में हर 15 मिनट में एक मौत

Check Also

सोनिया गांधी के विज्ञापन बंद करने की सलाह के विरोध में उतरे पत्रकार संगठन

नई दिल्ली (New Delhi) . केंद्र सरकार (Government) और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों द्वारा मीडिया …