मास्टर डिग्री के लिए नहीं जाना होगा विशाखापटनम, वेटरनरी विश्वविद्यालय जबलपुर में कर सकेंगे पीजी कोर्स

भोपाल (Bhopal) . प्रदेश के वेटरनरी विश्वविद्यालय के फिशरी कॉलेज से अब विद्यार्थी यूजी के साथ पीजी कोर्स कर सकेंगे. जल्द ही फिशरी कॉलेज में मास्टर कोर्स शुरू होगा. दरअसल अभी तक कॉलेज से सिर्फ यूजी कोर्स ही होता था. मास्टर कोर्स के लिए विद्यार्थियों को विशाखापटनम या मुंबई (Mumbai) जाना पड़ता था. अब वे जबलपुर (Jabalpur)फिशरी कॉलेज से मास्टर डिग्री भी कर सकेंगे. इसके साथ ही लगातार गिर रही फिशरी कॉलेज की साख को बचाने की कवायद शुरू हो गई है.वेटरनरी विश्वविद्यालय ने अनुसंधान के साथ शैक्षणिक गतिविधियों की रफ्तार बढ़ाने कई अहम कदम उठाए हैं, जिस पर विवि की बोर्ड समिति ने अपनी मोहर भी लगा दी है. फिशरी कॉलेज से अब यूजी, पीजी के अलावा सर्टिफिकेट कोर्स भी किए जा सकेंगे.

  प्रदेश के नागरिकों को मिलेगी रूसी वैक्‍सीन स्‍पूतनिक

दरअसल विवि की बोर्ड बैठक में रखे गए 15 एजेंडे में इसे भी शामिल किया गया था, जिस पर बोर्ड के सदस्यों ने अपनी सहमति दे दी है. रोजगार गारंटी के तहत युवाओं को फिशरी के तीन माह का सर्टिफिकेट कोर्स कराया जाएगा. हालांकि फिशरी कॉलेज में कई प्रशिक्षण कार्यक्रम होते हैं, लेकिन इनकी जानकारी युवाओं तक नहीं पहुंचती. उल्टे फिशरी कॉलेज और विवि के विद्यार्थी और कर्मचारियों से ही सीट भर दी जाती हवि विवि के तकनीकी कर्मचारियों के लिए राहत भरी खबर है. लंबे समय से कॅरियर एडवांस सर्विस (सीएएस) को लेकर चल रही उठापटक को शांत करने का प्रयास किया गया है.

  प्राइवेट कोविड अस्पतालों में एमडी फिजिशियन नहीं, तो मान्यता होगी समाप्त

विवि के कुलपति ने बोर्ड बैठक में इस एजेंड़े को भी रखा, जिस पर आपसी सहमति से निर्णय लिया गया कि इसका लाभ यूजीसी गाइडलाइन को ध्यान में रखते ही नियमानुसार सभी को दिया जाएगा, जिन्होंने दो ट्रेनिंग नहीं की है, उन्हें इसके लिए समय दिया जाएगा. इस बारे में वेटरनरी विश्वविद्यालय के कुलप‎ति डॉ.एसपी तिवारी का कहना है ‎कि डॉ.एसपी तिवारी बोर्ड बैठक में इस बार अनुसंधान, शैक्षणिक मुद्दों को ही प्राथमिकता दी गई है. सदस्यों ने बोर्ड में रखे एजेंडे को लेकर खुशी भी जाहिर की. हमारा प्रयास है कि विवि से जुड़े सभी लोगों के हितों को ध्यान में रखकर निर्णय लिए जाए.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें