Wednesday , 14 April 2021

मेवाड़ के पन्ने देश की पहली ऐतिहासिक डॉक्यूमेंट्री फिल्म : यू सर्टिफिकेट मिलने से 75 वर्ष में बनाया इतिहास, शीघ्र रिलीज होने की तैयारी

उदयपुर (Udaipur). सिने फिल्म इतिहास में उदयपुर (Udaipur) सदैव नए-नए कीर्तिमान स्थापित करता रहा है चाहे वह फिल्म शूटिंग लोकेशन या फिल्मों में अच्छे गाने लिखने वाले गीतकार या फिल्मों में निर्देशन करने की बात हो लेकिन हाल ही में उदयपुर (Udaipur) के एक निर्माता-निर्देशक ने फिल्म इतिहास के 75 वर्ष में पहली बार नया कीर्तिमान स्थापित कर उदयपुर (Udaipur) का गौरव बढ़ाया है. फिल्म पंचायत के बैनर तले हिंदी फिल्म जगत में पहली बार उदयपुर (Udaipur) के निर्माता निर्देशक व लेखक विनीत तलेसरा ने यह कीर्तिमान स्थापित किया है जिससे आने वाले दशकों तक हिंदी फिल्म जगत याद रखेगा.

फिल्म पंचायत के प्रवक्ता हरीश पालीवाल ने बताया कि भारत में हिंदी फिल्मों को बनते हुए लगभग 75 वर्ष से अधिक समय हो गया जिसमें सभी विषयों पर फिल्में बनी और चली भी पर हिस्टोरिकल डॉक्यूमेंट्री एजुकेशनल केटेगरी में आज तक कोई फिल्म नहीं बनी और इस सपने को लेकर विगत 12 सालों से संघर्षरत प्रयासरत रहे उदयपुर (Udaipur) के युवा कलाकार लेखक निर्माता व निर्देशक विनीत तलेसरा ने स्वप्न देखा. पालीवाल ने बताया कि अपने स्वप्न प्रोजेक्ट के रूप में निर्माता-निर्देशक विनीत तलेसरा ने मेवाड़ के पन्ने शीर्षक से हिस्टोरिकल डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने का अपना सफर शुरू किया विगत 12 वर्षों में उन्होंने मेवाड़ के इतिहास से जुड़े विभिन्न प्रसंगों तथा मेवाड़ के बड़े उत्सव फेस्टिवल मेले तथा आयोजनों को अपनी पटकथा के अनुसार उनका शूटिंग कार्य किया.

  चलती कार में आग, 5 गुजराती पर्यटकों ने कूदकर बचाई जान

पालीवाल ने बताया कि मेवाड़ के पन्ने की पटकथा लिखने वाले विनीत तलेसरा ने ही अपने चयनित लोगों की टीम बनाकर इस फिल्म की शूटिंग,एडिटिंग, वॉइस ओवर,गीतकार,english sub title,5.1आदि का कार्य पूर्ण किया. पालीवाल ने बताया कि विनीत तलेसरा की इस डॉक्यूमेंट्री एजुकेशनल हिस्टोरिकल फिल्म में उन्होंने मेवाड़ के 12 हज़ार वर्षों के गौरव मयी इतिहास के साथ उदयपुर (Udaipur) संभाग व राजस्थान (Rajasthan)के  साथ हिंदू राष्ट्र के अपने स्वप्न को इतिहास के रूप में कैमरे में कैद कर मेवाड़ के पन्ने फिल्म में उतारा है.

  उदयपुर में रात आठ बजे तक ही खुलेंगे रेस्टोरेंट, कलक्टर का आदेश- उल्लंघन पर होगी सख्त कार्यवाही

विनीत तलेसरा का मानना है कि यह फिल्म उनके लिए एक चुनौती थी और उनका एक ड्रीम प्रोजेक्ट था, कड़े संघर्ष के बीच इस फिल्म को आर्थिक सहायता कराने के लिए उन्होंने देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री वर्तमान प्रधानमंत्री राजस्थान (Rajasthan)के तत्कालीन व वर्तमान मुख्यमंत्री (Chief Minister) हिंदी व राजस्थानी प्रभाव भारत सरकार व राजस्थान (Rajasthan)सरकार के साथ उदयपुर (Udaipur) के मेवाड़ राजघराने से भी संपर्क कर सहयोग की अपेक्षा की बावजूद इसके सकारात्मक जवाब नहीं मिलने के बाद भी विनीत तलेसरा ने अपने इस प्रोजेक्ट को जारी रखा.

फिल्म पंचायत के बैनर तले बनी निर्माता-निर्देशक को पटकथा लेखक विनीत तलेसरा की  यह  फिल्म देश की पहली हिस्टोरिकल डॉक्यूमेंट्री एजुकेशनल कैटेगरी फिल्म है जिसे पहली केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड  सी बी  एफ सी ने यू प्रमाण पत्र जारी किया है जो फिल्म इतिहास में गौरव की बात है. विनीत तलेसरा निर्मित यह फिल्म मेवाड़ के पन्ने देश की एकमात्र ऐसी फिल्म है जो फिल्मों के इतिहास में एक नया कीर्तिमान स्थापित करेगी.

  वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप का अपमान करने वाले का मुँह काला करना चाहिए - समर सिंह बुंदेला

विनीत तलेसरा इस फिल्म को रिलीज करने के लिए बड़े उत्साही हैं और इसके लिए देश की बड़े सेलिब्रिटी से संपर्क कर रहे हैं जो शीघ्र रिलीज की जाएगी. प्रवक्ता हरीश पालीवाल ने बताया कि इस फ़िल्म में तिलकायत महाराज विशाल बाबा,प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, विदेश मंत्री राजनाथ सिंह एवं वर्तमान प्रतिपक्ष नेता के साक्षात्कार लेने में ही 4 वर्ष का समय लगा जो अब इस फ़िल्म में पात्र है.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *