Tuesday , 19 January 2021

मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने मंगोलिया के मंत्रियों के साथ हाइड्रोकार्बन और इस्पात क्षेत्र में की समीक्षा की

नई दिल्ली (New Delhi) . केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मंगोलिया के सांसद, मंत्री और मुख्य-कैबिनेट सचिव तथा दोनों देशों के बीच सहयोग के लिए बनी भारत-मंगोलिया संयुक्त समिति के सह अध्यक्ष महामहिम एल ओयून-एर्डीन और खनन एवं भारी उद्योग मंत्री महामहिम जी. योंडन से बातचीत की. इस बैठक के दौरान हाइड्रोकार्बन तथा इस्पात क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग की व्यापक समीक्षा की गई.

  नया स्‍ट्रेन कोरोना वैक्‍सीन को भी दे सकता है मात

मंत्री प्रधान ने भारत सरकार द्वारा क्रेडिट लाइन के तहत बनाई गई ग्रीनफील्ड मंगोल रिफाइनरी परियोजना के त्वरित कार्यान्वयन के लिए अनुमोदन की प्रक्रिया में समर्थन देने तथा सहयोग करने और रिफाइनरी तक कच्चे तेल के परिवहन के लिए एक पाइपलाइन स्थापित करने में उनकी प्रतिबद्धता के चलते महामहिम एल ओयून-एर्डीन और महामहिम जी. योंडन की सराहना की. इसका निर्माण सेनशंड में किया जा रहा है. उन्होंने रिफाइनरी परियोजना के चालू होने से पहले इस पाइपलाइन का कार्य अच्छी तरह से पूरा करने के लिए सहयोग की भी मांग की. प्रधान ने भारतीय इस्पात उद्योग के लिए कोकिंग कोयले की आपूर्ति में मंगोलियाई कंपनियों की उत्सुकता का भी स्वागत किया और आपसी लाभ के लिए अग्रिम सहयोग करने पर अपनी सहमति व्यक्त की.

  PVR को तीसरी तिमाही में 49 करोड़ का घाटा

उन्होंने कहा कि, “हम खनिज, कोयला और इस्पात के क्षेत्र में मंगोलियाई कंपनियों के साथ पर्याप्त भागीदारी के लिए तत्पर हैं. केंद्रीय मंत्री ने भारत सरकार की ओर से मंगोलिया की पहली तेल रिफाइनरी, मंगोलियाई रिफाइनरी परियोजना को समय पर पूरा करने के लिए भारत की प्रतिबद्धता को दोहराया. उन्होंने मंगोलिया की विकासात्मक प्राथमिकताओं के अनुसार क्षमता निर्माण सहित तेल और गैस क्षेत्र में भारत की विशेषज्ञता को आगे साझा करने की भी इच्छा व्यक्त की.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *