Thursday , 21 January 2021

पाकिस्तान में गिराए गए मंदिर-समाधि स्थल का अल्पसंख्यक सांसदों ने ‎किया दौरा

– बोले, दोषियों को ‎किसी भी हाल में नहीं बख्शा जाएगा

पेशावर . पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय से जुड़े सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में हाल में ही कट्टरपंथियों के हमले में गिराए गए मंदिर और समाधि स्थल का दौरा किया. इस मंदिर को कट्टरपंथी जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम पार्टी (फजल उर रहमान समूह) के सदस्यों ने हमला कर गिरा दिया था. गौरतलब है ‎कि फजल उर रहमान वर्तमान में इमरान खान के खिलाफ विपक्षी पार्टियों के गठबंधन पीडीएम का नेतृत्व कर रहे हैं. खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के करक जिले के तेरी गांव में स्थित इस मंदिर के गिराए जाने पर दुनियाभर से तीखी प्रतिक्रियाएं आई थीं. हिंदू समुदाय ने दशकों पुराने भवन का जीर्णोद्धार कराने के लिए स्थानीय प्रशासन से अनुमति ली थी, जिसके बाद यह हमला किया गया.

  पाकिस्तान ने चीनी की कोरोना वैक्सीन को दी आपात इस्तेमाल की मंजूरी

भीड़ ने पुराने ढांचे के साथ ही नवनिर्मित ढांचे को भी गिरा दिया था. धार्मिक और अल्पसंख्यक मामलों के लिए संसदीय सचिव शहनेला रावत के नेतृत्व में संसदीय प्रतिनिधिमंडल ने यह दौरा किया. प्रतिनिधिमंडल में खैबर पख्तूनख्वा के मुख्यमंत्री (Chief Minister) के सलाहकार समेत अन्य नेता भी थे. रावत ने संवाददाताओं से कहा कि सरकार ने मामले का गहरा संज्ञान लिया है और दोषियों को न्याय के कटघरे में लाया जाएगा. उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना के बाद सरकार द्वारा उठाए गए कदम से संतुष्ट हैं. खैबर पख्तूनख्वा के पुलिस (Police) प्रमुख सनउल्ला अब्बासी ने कहा था कि मामले में मुख्य आरोपी फैजुल्ला को करक जिले से गिरफ्तार कर लिया गया. फैजुल्ला ने ही भीड़ को मंदिर पर हमला करने और समाधि को ढहाने के लिए उकसाया था. पुलिस (Police) प्रमुख ने बताया था कि 110 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *