मूडीज ने भारतीय बैंकिंग प्रणाली परिदृश्य नकारात्मक से स्थिर किया

नई दिल्ली (New Delhi) . मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारतीय बैंकिंग प्रणाली के लिए परिदृश्य को नकारात्मक से स्थिर कर दिया. मूडीज ने संभावना व्यक्त की है ‎कि अगले 12-18 महीनों में भारत की अर्थव्यवस्था में सुधार जारी रहेगा और मार्च, 2022 में समाप्त होने वाले वित्त वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 9.3 प्रतिशत और उसके अगले वर्ष 7.9 प्रतिशत की वृद्धि होगी. मूडीज ने अपनी बैंकिंग प्रणाली परिदृश्य- भारत रिपोर्ट में कहा है ‎कि आर्थिक गतिविधियों में तेजी से ऋण वृद्धि को बढ़ावा मिलेगा. यह वृद्धि हमें सालाना 10-13 प्रतिशत रहने की उम्मीद है. कमजोर कॉरपोरेट वित्तीय स्थिति और वित्तीय कंपनियों में वित्त पोषण की कमी बैंकों के लिए प्रमुख नकारात्मक कारक रहे हैं लेकिन ये जोखिम कम हो गए हैं इसमें कहा गया कि कॉरपोरेट ऋणों की गुणवत्ता में सुधार हुआ है जो यह दर्शाता है कि बैंकों ने इस वर्ग में पुरानी समस्याओं वाले सभी ऋणों को मान्यता दी है और उन्हें लेकर प्रावधान किया है. रिपोर्ट के मुताबिक, खुदरा ऋणों की गुणवत्ता में गिरावट आई है लेकिन यह एक सीमा तक हुआ है क्योंकि व्यापक रूप से नौकरियां छूटने की समस्या नहीं देखी गई है.

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *