Wednesday , 14 April 2021

KVPY में रेडियेंट के सर्वाधिक विद्यार्थी चयनित

 

उदयपुर (Udaipur). द रेडियेंट एकेडमी के विद्यार्थियों ने हाल ही में घोषित किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (केवीपीवाई 2020) के परिणामों में उल्लेखनीय सफलता हासिल की है. संस्थान के निदेशक कमल पटसारिया ने बताया कि कक्षा बारहवीं के छात्र (student) साहिल सैफी (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-328 प्राप्त कर उदयपुर (Udaipur) शहर में प्रथम स्थान प्राप्त किया है. कक्षा बारहवीं से चयनित अन्य विद्यार्थियों में वैभव खाटेड़ (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-614, कोमल गुप्ता (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-828, अमन सिंह (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-828, निभ्रान्त वैष्णव (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-1202, शशांक सिंह तोमर (सीडलिंग स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-1340, प्रियांश जैन (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-1372 प्राप्त कर उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है, जो कि उदयपुर (Udaipur) में सर्वश्रेष्ठ एवं सर्वाधिक है.

  पॉजीटिव होने के बावजूद यात्रा करना पड़ा भारी, इंडिगो सहित 3 के विरूद्ध FIR दर्ज

कक्षा ग्यारहवीं के छात्र (student) हिमांक बोहरा (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-389, राहुल अग्रवाल (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-473, अक्षत सिंघवी (एमडीएस स्कूल) ने आॅल ईन्डिया रेंक-781 प्राप्त कर सराहनीय प्रदर्शन किया है.

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना की परीक्षा 31 जनवरी 2021 को समस्त भारतवर्ष में आयोजित करवाई गई थी, जिसके अन्तर्गत कक्षा ग्यारहवीं एवं कक्षा बारहवीं का कट आॅफ सामान्य वर्ग के छात्रों के लिए 52 प्रतिशत, एससी/एसटी वर्ग के लिए 40 प्रतिशत है. कक्षा ग्यारहवीं से समस्त भारतवर्ष में कुल 1019 विद्यार्थियों का चयन किया गया है जिसमें सामान्य वर्ग के 921, एससी/एसटी से 94 एवं विकलांग वर्ग से 4 विद्यार्थी सम्मिलित है. इसी तरह से कक्षा बारहवीं से समस्त भारतवर्ष मंे कुल 1890 विद्यार्थियों का चयन किया गया है जिसमें सामान्य वर्ग के 1753, एससी/एसटी से 133 एवं विकलांग वर्ग से 4 विद्यार्थी सम्मिलित है.

  वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप का अपमान करने वाले का मुँह काला करना चाहिए - समर सिंह बुंदेला

उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना की परीक्षा दो चरणों में आयोजित करवाई जाती थी जिसके अन्तर्गत प्रथम चरण लिखित परीक्षा नवम्बर माह में एवं द्वितीय व अंतिम चरण साक्षात्कार द्वारा विद्यार्थियों का चयन किया जाता था, परन्तु इस वर्ष कोविड-19 (Covid-19)  के कारण यह परीक्षा एक ही चरण में आयोजित करवाई गई. चयनित विद्यार्थियों को कक्षा बारहवीं के पश्चात प्रतिमाह 5000 रूपये की छात्रवृत्ति इण्डियन इंस्टीट्यूट आॅफ सांइस द्वारा प्रदान की जाती है.

  वल्लभगनर का किसान पुत्र बना दुबई का बिजनेस ताइकुन

इस अवसर पर विशेष अभिनन्दन समारोह भी आयोजित किया गया जिसके अन्तर्गत चयनित विद्यार्थियों को संस्थान के निदेशक नितिन सोहाने, कमल पटसारिया, जम्बू जैन एवं उपेन्द्र सिंह, दिलीप जैन, अंकित कुमार, नंदलाल सेपट ने इस महत्वपूर्ण सफलता पर बधाई दी एवं उज्जवल भविष्य की हार्दिक शुभकामनाएंे भी दी.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *