नासा के मार्स रोवर परसिवरेंस ने खींची फोटो

वा‎शिंगटन . अमे‎रिकी अंत‎रीक्ष एजेंसी नासा के मार्स रोवर परसिवरेंस ने एक फोटो खींची है, जिसमें मंगल ग्रह क आसमान में रेनबो दिखाई दे रहा है. यह रेनबोदेखने में काफी खूबसूरत (Surat) है. ऐसा पहली बार हुआ है जब रोवर ने धरती से इतनी दूर कोई चीज को कैमरे में कैप्चर की हो. इस बात की जानकारी नासा ने ट्वीट कर दी है.

बता दें कि नासा का परसिवरेंस रोवर फरवरी में मंगल ग्रह के जेजीरो क्रेटर में उतरा था. मंगल ग्रह पर नासा अबतक 5 रोवर भेज चुकी है. वहीं नासा ने मंगल पर हेलीकॉप्टर इंजेंवेनिटी भी भेजा है, जिसे फिलहाल इसकी सतह पर उतार दिया गया है. नासा ने कहा है कि बहुत लोगों का कहना है कि क्या मंगल पर इंद्रधनुष हैं. इसका जवाब देते हुए नासा ने कहा कि लाल ग्रह पर रेनबो नहीं हो सकता है.

  सैमसंग ने #PoweringDigitalIndia प्रतिबद्धता को किया और मजबूत; सैमसंग स्‍मार्ट स्‍कूल पहल के तहत 80 नए नवोदय स्‍कूलों में शुरू की सैमसंग स्‍मार्ट क्‍लासेस

नासा ने कहा कि रेनबो रोशनी के रिफ्लेक्शन और पानी की छोटी बूंदों से बनता है. मंगल पर इतना पानी मौजूद नहीं हैं. यहां पर मौसम में तरल पानी के अपेक्षा बेहद ठंडा है. नासा ने कहा, लाल ग्रह के आकाश में दिखाई देने वाला इंद्रधनुष दरअसल रोवर के कैमरे में लगे लैंस की एक चमक है. बता दें मंगल ग्रह का वातावरण सूखा है. जहां वातावरण में 95 फीसद टॉक्सिक कार्बनडाईऑक्साइड है. वहीं 4 फीसद नाइट्रोजन व अरगोन जबकि एक फीसद ऑक्सीजन है.

  सैमसंग बेकर सीरीज़ माइक्रोवेव के साथ दीजिए अपने भीतर के मास्टर शेफ को उभरने का मौका

नासा के प्रोग्राम एग्जीक्यूटिव डेव लावेरी ने बताया कि फोटो में दिखाई दे रहा कलर्स की लाइन मंगल ग्रह के आकाश में छाई धूल भी हो सकती है. जो सूर्य की रोशनी में दिखाई दे रही है. ऐसा लैंस की चमक के कारण भी हो सकता है. लावेरी के अनुसार जिस समय तस्वीर ली गई तब रोवर नॉर्थ डायरेक्शन की तरफ था. जबकि मार्स ग्रह के समय के हिसाब से दोपहर के 2 बजे का समय था. हालांकि कुछ जानकारों का कहना है कि इसकी वजह आइसबो को सकती है, जो लाल ग्रह के पोलर इलाके में है.

Rajasthan news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *