नीलकंठ महादेव को सवा लाख महामृत्युंजय मंत्र जाप, रुद्री पाठ ओर विदेशी फूलों के श्रृंगार से रिझाया

उदयपुर (Udaipur). सावन के चौथे सोमवार (Monday) को जहां उदयपुर (Udaipur) के विभिन्न महादेव मंदिरों में पूजा-अर्चना हुई, वही शहर के यूआईटी के पास स्थित नीलकंठ महादेव  मंदिर में इस पावन मौके पर बेहद अनूठा आयोजन किया गया. आयोजन के तहत शिव भक्त लव श्रीमाली और लकी फ्लावर्स के गौरव माली सहित शिव भक्तों की टीम ने कोरोना महामारी (Epidemic) से मुक्ति के लिए सवा लाख महामृत्युंजय मंत्र का जाप कर महायज्ञ किया इस विशेष मोके को लेकर नीलकंठ महादेव और संपूर्ण मंदिर परिसर को विदेशी फूलों से सजाया गया.
शिवभक्त लव श्रीमाली ने बताया कि कोरोना की महामारी (Epidemic) से पूरा विश्व जूझ रहा है, ऐसे में महादेव को रिझाने के लिए उनके मंदिर को विदेशी फूलों से सजाया गया. सुबह 4 बजे 11 पंडितों द्वारा महामृत्युंजय मंत्र के जाप शुरू हुए, और इस महायज्ञ में भोलेनाथ से यह अरज की गई, कि जिस तरह उन्होंने समुद्र मंथन से निकले हलाहल विष को अपने कंठ में धारण कर संपूर्ण मानव जाति को बचाया वैसे ही इस कोरोना रूपी विष से संपूर्ण मानव जाति को बचाएं. शाम को 4 बजे लव श्रीमाली द्वारा पूर्ण विधि विधान के साथ रुद्री पाठ किया गया और आहुतियां दी गई
शिव भक्त लक्की फ्लावर्स के गौरव माली ने बताया कि नीलकंठ महादेव मंदिर में प्रवेश हेतु बेहद सुंदर स्वागत द्वार लगाया गया और पूरे परिसर को हॉलैंड, कोलंबिया ओर थाईलैंड से मंगवाए गए फूलों से बेहद खूबसूरत (Surat)ी से सजाया गया. इसके साथ ही नीलकंठ महादेव को भी इन फूलों से श्रृंगारित किया गया. कोरोना (Corona virus) का संक्रमण ना फैले और भक्त आसानी से इस पूरे धार्मिक आयोजन में शामिल हो, इसके लिए मंदिर के बाहर लगी एलईडी पर सैकड़ों भक्तों ने महादेव के दर्शन किए और कोरोना मुक्ति के लिए भी प्रार्थना की. आयोजन के दौरान भीड़ इकट्ठा ना हो इसके लिए सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूर्ण रूप से ध्यान रखते हुए मंदिर के बाहर तैनात सिक्योरिटी गार्ड ने भीड़ इकट्ठा होने नहीं दिया.
  नेशनल हाईवे-8 पर जनजाति अभ्यर्थियों का धरना समाप्त, संयुक्त बैठक में सहमति के बाद हाईवे पर आवागमन हुआ सामान्य

Check Also

ह्रदय की जांच मात्र 999 रुपये में

उदयपुर (Udaipur). पारस जे. के. हॉस्पिटल में विश्व ह्रदय दिवस के उपलक्ष्य में ह्रदय रोगों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *