2015 के परमाणु करार पर लौटने के लिए अमेरिका और ईरान के बीच फिर शुरू हुई बातचीत


बर्लिन . अमेरिका को ईरान के साथ 2015 के परमाणु करार में वापस लाने के प्रयासों के तहत शुक्रवार (Friday) को हुई बातचीत में वॉशिंगटन और तेहरान के मतभेद वाले जटिल मुद्दों पर तत्काल कोई प्रगति नहीं हुई है, लेकिन वार्ता में शामिल प्रतिनिधियों ने सकारात्मक माहौल की आशा व्यक्त करते हुए बातचीत जारी रखने का संकल्प जताया. अमेरिकी पाबंदियों को हटाने और ईरान को समझौते के पालन के लिए मनाने के तरीकों पर चर्चा के लिए मंगलवार (Tuesday) से वियना में दो कार्यसमूह बैठक कर रहे हैं.

फ्रांस, जर्मनी, ब्रिटेन, चीन और रूस अब भी ईरान के साथ इस समझौते के पक्षकार हैं, जिसे संयुक्त व्यापक कार्य योजना (जेसीपीओए) के रूप में जाना जाता है. यह बैठक ऐसे समय में हो रही है जब तीन दिन पहले रूस के प्रतिनिधि ने कहा था कि वे प्रतिबंधों को हटाने और परमाणु मुद्दों को लेकर विशेषज्ञ स्तर के समूहों को स्थापित करने के लिए सहमत हुए हैं.

रूसी प्रतिनिधि मिखाइल उल्यानोव ने ट्वीट कर कहा कि बैठक के प्रतिभागियों ने प्रारंभिक प्रगति पर संतोष जताया. उन्होंने कहा आयोग सकारात्मक माहौल को बनाये रखने के लिए अगले सप्ताह फिर बैठक करेगा. यह बैठक अमेरिका की गैर-मौजूदगी में हुई जिसने एकपक्षीय तरीके से परमाणु करार से हाथ खींच लिया था. हालांकि जो बाइडन के प्रशासन में ईरान के लिए विशेष दूत रॉब माल्ले के नेतृत्व में अमेरिका का एक प्रतिनिधिमंडल भी इस सप्ताह ऑस्ट्रिया की राजधानी में है. अन्य वैश्विक महाशक्तियों के प्रतिनिधि अमेरिका और ईरान के बीच परोक्ष वार्ता के लिए प्रयासरत हैं.

 

न्‍यूज अच्‍छी लगी हो तो कृपया शेयर जरूर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *