नेतन्याहू ने की कोविड और ईरान के मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन से की बात

तेल अवीव . इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने गुरुवार (Thursday) को फोन को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन से बातचीत की. बाइडन के सत्ता संभालने के बाद करीब एक महीने तक दोनों राष्ट्र प्रमुखों के बीच बात नहीं होने से इजराइल में दोनों सहयोगी देशों के बीच संबंधों को लेकर चिंता जाहिर की जाने लगी थी. दोनों नेताओं के बीच बातचीत होने के बारे में सबसे पहले घोषणा नेतन्याहू के कार्यालय की ओर से की गई. कार्यालय की ओर से जारी वक्तव्य में कहा गया कि बातचीत ‘गर्मजोशी भरी एवं दोस्ताना’ थी और नेतन्याहू तथा बाइडन के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत हुई. इसके बाद बाइडन ने संवाददाताओं से कहा, ‘हमारे बीच अच्छी बातचीत हुई.’

  भारत ने पाकिस्तान को लताड़कर कहा, उसके ही नेता स्वीकारते हैं कि देश आतंकवादियों का कारखाना बनता जा रहा

इजराइल में 23 मार्च को चुनाव होने हैं. नेतन्याहू के कार्यालय की ओर से कहा गया, ‘दोनों नेताओं ने लंबे समय से जारी अपने निजी संपर्कों को रेखांकित किया और कहा कि इजराइल एवं अमेरिका के बीच संबंधों को मजबूत बनाए रखने की खातिर वे मिलकर काम करेंगे.’ इसमें बताया गया कि दोनों नेताओं के बीच चर्चा में ‘ईरान की ओर से परमाणु हथियारों के विकास के कारण उत्पन्न खतरे’, कोरोना (Corona virus) महामारी (Epidemic) से लड़ाई के प्रयासों और अरब देशों के साथ इजराइल के समझौतों का विस्तार करने की मंशा के विषय शामिल थे.

  अमेरिका ने कहा, चीन अंतर महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल साइलो का निर्माण कर रहा

इजराइल के नागरिक जनवरी में बाइडन के शपथ लेने के समय से शिकायत कर रहे हैं कि नए राष्ट्रपति ने नेतन्याहू से संपर्क नहीं किया. उन्होंने चिंता जताई थी कि पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के गर्मजोशी भरे व्यवहार के बाद यह संवादहीनता दोनों करीबी सहयोगी देशों के बीच रिश्तों की प्रगाढ़ता को कम कर सकती है. नेतन्याहू अमेरिका के राष्ट्रपतियों और अन्य वैश्विक नेताओं से अपने करीबी रिश्तों को लेकर जाने जाते रहे हैं. उन्हें उम्मीद है कि वह बाइडन को ईरान के परमाणु समझौते में पुन: शामिल करने से रोक लेंगे. इजराइल इस सौदे का पुरजोर विरोधी है.

Please share this news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *